DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सईद की हत्या में शराफत ने मुहैया कराए थे असलहे

हिस्ट्रीशीटर सईद नाटे की हत्या के लिए डी-80 गैंग के शूटर शराफत ने असलहे मुहैया कराए थे। हत्यारोपी न बन जाए इसलिए चोरी के एक मामले में शराफत नाटे की हत्या से पहले बजरिया से जेल चला गया था। रविवार को कर्नलगंज पुलिस ने सईद नाटे के हत्यारोपी रईस मोटा, बेटे अफजल और शेखू को रिमाण्ड पर लेकर पूछताछ की जिसमें यह खुलासा हुआ। पुलिस ने रईस मोटा की निशानदेही पर तमंचे बरामद कर लिये।

रिमाण्ड पर पूछताछ में रईस मोटा ने बताया कि सईद नाटे से बड़े-बड़े खलीफा खौफ खाते थे। प्रॉपर्टी और स्मैक के धंधे में सईद को बिना पत्ती (हिस्सा) दिए पत्ता नहीं हिलता था। इलाके के हिस्ट्रीशीटरों ने एक बार योजना बनाई थी लेकिन सईद को पता चल गया और उसने दो हिस्ट्रीशीटरों को शहर छोड़ने पर मजबूर कर दिया था। रईस ने बताया कि हत्या में उसने परिवार के लोगों को इसलिए शामिल किया कि योजना लीक न हो जाए। डर था कि सईद बच गया तो वह नहीं छोड़ेगा, इसलिए यह बात परिवार के भीतर ही रखी और काम तमाम कर दिया। पूछताछ में यह भी पता चला कि डी-80 गैंग का रियाजत, उसका भाई शराफत, स्मैक तस्कर नूरैन भगवान जैसे कई जरायमपेशा लोग नाटे को रास्ते से हटाने में मददगार रहे। साजिश में बबलू जिलानी का नाम भी सामने आया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सईद की हत्या में शराफत ने मुहैया कराए थे असलहे