DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चलती बाइक में गोली कैसे मारी अपराधियों ने

कार्यालय संवाददाता पटना। बाइक चला रहे निरंजन ने पुलिस को बताया है कि वह बाइक सामान्य गति में चला रहा था। प्रेम पीछे बैठा हुआ था। गोली की आवाज सुनाई दी। जब वह आगे बढ़ा तो देखा कि प्रेम बाइक पर नहीं है वह पीछे गिर गया है। वह खून से लथपथ है। थोड़ी देर में उसने दम तोड़ दिया। वहीं जांच में जुटी पुलिस का कहना है कि उसे अपराधियों ने नजदीक से गोली मारी है।

दाहिनी ओर कनपट्टी पर गोली लगी है। अगर निरंजन व पुलिस की बातें सही है तो इसका मतलब हत्यारा शार्प शूटर है। गोली चलाने में उसे अपने टाइमिंग पर पूरा कमांड है। कई हत्याकांडों का उद्भेदन करने वाले एक पुलिस अधिकारी के अनुसार पटना में फिलहाल इस तरह का कोई शार्प शूटर नहीं जो नार्मल स्पीड में चलती बाइक में किसी को निशाना साध कर गोली मार दे और उसकी हत्या हो जाए।

उसके दाहिनी ओर गोली लगी है। यानी अपराधियों ने बीच सड़क पर आकर उसे गोली मारी। सवाल यह है कि इस व्यस्तम रोड पर बीच सड़क पर आकर गोली मारने का कोई जोखिम क्यों उठाएगा? जबकि जगदेवपथ से दानापुर की ओर जा रहे बाइक को बायीं ओर से निशाना बनाना ज्यादा आसान है। पुलिस इस बात को लेकर उलझी है कि चलती गाड़ी में सिर्फ प्रेम को ही गोली लगी और निरंजन को कुछ नहीं हुआ।

एक ही गोली क्यों मारी गई? जब अपराधी बीच सड़क पर आकर गोली चला रहा है तो उसे एक ही गोली क्यों मारी गई। चाहते तो चार-पांच राउंड फायरिंग कर निरंजन को भी साफ कर देते। पर ऐसा नहीं हुआ। इससे साफ होता है कि टारगेट पर केवल प्रेम ही था।

प्रेम की मां शोभा का कहना है कि शुक्रवार को वह गांव आने वाला था। क्या हत्यारे को इस बात की कहीं भनक तो नहीं लग गई? कारणा चाहे जो भी हो पर पहले से घात लगाए अपराधियों ने उसे उस वक्त गोली मारी, जब बाइक रुकी या उसकी रफ्तार धीमी रही हो!

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चलती बाइक में गोली कैसे मारी अपराधियों ने