DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोमांचक खेलों में जरा-सी चूक पड़ जाती है भारी

हर रोमांचक खेल में एक प्रतिशत का जोखिम होता है। ये जोखिम ही उस खेल के रोमांच को कई गुना बढ़ाता है। इस बात में कोई शक नहीं है कि मौज-मस्ती और मनोरंजन के लिए लोग, खासतौर पर युवा रोमांचक खेलों को खासा पसंद कर रहे हैं।

किसी भी खेल में हार-जीत होना स्वाभाविक है, लेकिन रोमांचक खेलों में थोड़ी-सी चूक जिंदगी खत्म कर सकती है। ऐसे में रोमांच के साथ-साथ उनके सुरक्षा इंतजामों को पुख्ता कर लेना बेहद जरूरी है। लोगों की पसंद को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर समेत कई शहरों में मॉल्स में एडवेंचर स्पोर्ट्स खोले जा रहे हैं।

ऐसे में जिम्मेदारी बनती है कि जरूरी सुरक्षा उपकरणों, सुविधाओं, मानकों आदि का पालन किया जाए। चूंकि इन खेलों में खतरा होता है और कभी भी कुछ भी हो सकता है, ऐसे में एहतियातन इस दौरान हर वक्त एंबुलेंस और डॉक्टर मौजूद होना चाहिए। कभी भी कोई भी हादसा हो सकता है, जो जिंदगी भर के लिए एक नासूर बन सकता है। साथ ही जान जाने का खतरा तो रहता ही है।

मुझे याद है जब मैं ‘रोडीज’ में था, तो हमारे साथ हर दम सुरक्षा टीम तैनात रहती थी। इसके अलावा अगर आप ‘रोडीज’ देखें तो शो में शामिल किए जाने वाले हर टास्क को पहले रोडीज की टीम खुद से करती है। किसी एक निर्धारित टास्क के सकारात्मक और नकारात्मक पहलू तय कर लेने के बाद ही प्रतिभागी उन्हें करते हैं। यही नहीं, रोमांच प्रेमी इन लोगों को इन खेलों पर किस्मत आजमाने से पहले खेल में इस्तेमाल किए जाने वाले उपकरण, तैयारी, माहौल आदि चीजों पर ध्यान देना चाहिए, ताकि वे चूक से बच सकें। गत वर्षो में भारत में रोमांचक खेलों का दायरा बढ़ा है। इसमें टेलीविजन एक अहम भूमिका में है।

एमटीवी पर प्रसारित होने वाला ‘रोडीज’ और कलर्स का ‘खतरों के खिलाड़ी’ आदि कई शो रोमांचक खेलों पर आधारित हैं, जिनसे आम लोगों में इनके प्रति दिलचस्पी बढ़ी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रोमांचक खेलों में जरा-सी चूक पड़ जाती है भारी