DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सर्राफा हड़ताल खत्म, वजह बनी फूट

 बरेली। वरिष्ठ संवाददाता

22 दिनों से चली आ रही सर्राफा व्यापारियों की हड़ताल आपसी फूट के चलते टूट गई। शनिवार को एक संगठन के प्रदेश पदाधिकारी ने अपनी दुकान खोली, वहीं कुछ व्यापारियों के विरोध के बाद दुकानें बंद कर दी। बाद में मीटिंग और सुलह-समझौते से बात नहीं बनी और दोपहर बाद अधिकांश दुकानें खुल गईं। हालांकि कुछ व्यापारी फिर भी बंदी पर अड़े रहे और दुकानें नहीं खोलीं। सर्राफा व्यापारी नान ब्रांडेड ज्वैलरी पर एक्साइज डय़ूटी बढ़ाने के विरोध में पिछले 22 दिनों से बंदी और प्रदर्शन कर रहे थे। शनिवार को उत्तर प्रदेश सर्राफा एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री राजकुमार अग्रवाल ने अपनी दुकान खोल ली।

जबकि आलमगीरीगंज, साहूकारा सहित अन्य बाजारों में स्थित सर्राफा प्रदेश और केंद्रीय नेताओं की लिखित अनुमति का इंतजार करते हुए दुकाने बंद रखे हुए थे। एक प्रदेश स्तर के सर्राफा व्यापारी नेता की दुकान खुलने की सूचना पूरे जिले और मंडल में आग की तरह फैल गई। इससे अन्य दुकानें भी खुलने लगीं। स्थानीय व्यापारियों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया और राजकुमार अग्रवाल की दुकान के सामने एकत्र होकर नारेबाजी करने लगे। हालांकि कुछ अन्य नेताओं ने नाराज सर्राफा व्यापारियों को शांत कराकर आलमगीरीगंज में एक मीटिंग बुलाई। इसमें उप्र सर्राफा एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री राजकुमार और बरेली महानगर सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव अग्रवाल ने एक दूसरे पर शब्द बाण छोड़े। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर आरोप लगाए।

मीटिंग अनिर्णय के बाद समाप्तइस मीटिंग में संदीप अग्रवाल, ब्रजेश अग्रवाल, श्रीश खंडेलवाल, विजय गोयल, विनीत रस्तोगी, सुभाष अग्रवाल, पिंकी सर्राफ, विशाल मेहरोत्रा, राधा किशन रस्तोगी, संजय रस्तोगी, अनिल पाटिल, संजीवऔतार अग्रवाल आदि मौजूद रहे।

दिन भर रहा संशय शनिवार को दुकान खोलने और बंद रखने को लेकर दिन भर उहापोह की स्थिति बनी रही। सुबह 12 बजे मीटिंग के बाद राजकुमार अग्रवाल के नेतृत्व में सर्राफा व्यापारियों ने अपनी दुकानें खोल लीं। इसके चलते अधिकांश दुकानदारों भी धीरे-धीरे अपनी दुकानें खोल लीं।

हालांकि बरेली महानगर एसो. के राजीव अग्रवाल ने विरोध स्वरूप अपनी दुकान नहीं खोली।सर्राफा व्यापारी दिन भर अपने सम्पर्को को फोन लगाकर दिल्ली, मुम्बई, राजस्थान, पंजाब सहित अन्य स्थानों के बाजारों के खुलने या बंद होने की स्थिति पता करते रहे। यह था विवादवार्ता के बाद खोली दुकानेंशुक्रवार को सर्राफा एसोसिएशन के केंद्रीय नेता महेश चंद्र ने वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी और यूपीए की नेता सोनिया गांधी से बातचीत के बाद मौखिक तौर पर सर्राफा व्यापारियों को दुकानें खोलने के निर्देश दे दिए।

प्रदेश महामंत्री राजकुमार अग्रवाल का कहना है कि प्रदेश नेतृत्व के निर्देश पर सभी सर्राफा व्यापारियों को दुकान खोलने के कहा। इसमें कोई अंतविरेध नहीं है। 22 दिन की लड़ाई तोड़ीबरेली महानगर सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीव अग्रवाल का कहना है कि 21 दिनों तक हड़ताल जारी रही तो 22 वें दिन भी सबकी सहमति लेकर ही दुकान खोलनी चाहिए थे। इस तरह दुकान खोलने को लेकर सभी व्यापारियों में असमंजस की स्थिति बन गई। आम व्यापारी समझ नहीं पाया क्या करना है।आज से खुलेंगी दुकानें !22 दिन लम्बी बंदी के बाद सर्राफा बाजार रविवार को सामान्य तौर पर खुल सकता है। हालांकि अभी व्यापारी प्रदेश नेतृत्व के अंतिम निर्देश का इंतजार कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सर्राफा हड़ताल खत्म, वजह बनी फूट