DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं के पहनावे पर टिप्पणी करने वाला इंस्पेक्टर चर्चा में

छेड़छाड़ व बलात्कार से पीड़ित लड़की व महिलाओं के बारे में पुलिसवाले क्या सोचते हैं? एक टीवी चैनल पर चले इसके स्टिंग ऑपरेशन के दौरान पुलिसिया सोच सामने आई। रेप की घटनाओं के लिए उन्होंने अपनी नाकामी से कहीं जिम्मेदार का ठीकरा लड़की के कपड़े और लाइफ स्टाइल पर फोड़ा तो कुछ ने घरवालों और घर के माहौल पर।

फरीदाबाद के एक इंस्पेक्टर ने भी इस ऑपरेशन के दौरान ऐसा ही कुछ कहा। हालांकि 24 घंटे चले इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद भी उक्त इंस्पेक्टर के विचारों के बारे में पुलिस अधिकारियों को इसकी कोई जानकारी नहीं।

इस तरह के विचारों को लेकर सयुंक्त पुलिस आयुक्त अनिल कुमार राव मानते हैं कि इस तरह के विचार निजी हो सकते हैं। लेकिन विभागीय ऐसे विचार नहीं हो सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों गुड़गांव के एक पब में एक 28 साल की कामकाजी लड़की को 6 लोगों ने जबरन उठा लिया और उसके साथ गैंगरेप हुआ। कानूनी तौर पर तो पुलिस बलात्कारियों की तलाश कर रही है लेकिन हकीकत में वह लड़की की निजी जिंदगी में गलतियां तलाश रही है। इसी तरह इस ऑपरेशन में ज्यादातर पुलिसवालों का मानना है कि बलात्कार अब ब्लैकमेलिंग का हथियार बन चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिलाओं के पहनावे पर टिप्पणी करने वाला इंस्पेक्टर चर्चा में