DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना लाइसेंस के चल रहा था कोल्ड स्टोर

सींगेमई का जो कोल्ड स्टोर धराशायी हुआ है, उसका कारण मानकों की अनदेखी माना जा रहा है। एक साल के अंदर बनकर तैयार हुआ कोल्ड स्टोर को घटिया तरीके से बनाया गया था। वहीं कोल्ड में आलू की बोरियाँ रखने का लाइसेंस भी नहीं था फिर आखिर कैसे आलू रखे गए, यह सवाल भी जांच में चौंकाने वाला होगा। सींगेमई का साईं कोल्ड स्टोर का निर्माण करीब एक साल पहले ही हुआ था। आनन फानन में बनकर तैयार हुए इस कोल्ड स्टोर की क्षमता एक लाख आलू की बोरियाँ रखने की थीं।

इस कोल्ड स्टोर का अभी तक कोई आलू रखने का लाससेंस भी जारी नहीं हो पाया था। यहां तक कि लाइसेंस के लिए कोल्ड स्वामी ने प्रशासन में कोई एप्लाई भी नहीं की थी, इसके बाद भी धड़ल्ले से इसके अंदर करीब 90 हजार आलू की बोरियों को रखवा दिया गया। निर्माण के दौरान भी मानकों की अनदेखी की गई जिसका सबूत खुद मलवा दे रहा है जो ताश के पत्तें की तरह ढह गया। एडीएम बुलाकी राम का कहना है कि जब कोल्ड स्वामी के पास लाइसेंस नहीं था तो फिर लगातार आलू कैसे रखे जाते रहे, यह जांच का विषय है। इस संदर्भ में संबंधित विभागों के अधिकारियों को पूरी जानकारी रहती है और समय समय पर निरीक्षण भी होते हैं। इसलिए मामला और गंभीर हो गया है। पूरे प्रकरण में शासन द्वारा रिपोर्ट तलब करने से जांच में पूरी सावधानी बरती जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टिया तो कोल्ड स्वामी दोषी माना जा रहा है लेकिन अधिकारी या कर्मचारियों की संलिप्तता से भी इंकार नहीं किया जा सकता। यह जांच के बाद ही पता चलेगा। 

आलू को सुरक्षित करने की कवायद होगी
सिरसागंज। एसडीएम शिकोहाबाद कर्मेद्र सिंह का कहना है कि आलू को सुरक्षित करने की कवायद पर जोर दिया जा रहा है। किसी तरह मलवे के अंदर से आलू की बोरियों को निकालकर सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जाएगा। इससे किसानों की मेहनत पर पानी नहीं फिरेगा। प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है।

मलबे के अंदर नहीं अब कोई मजदूर
सिरसागंज। शुक्रवार की मध्य रात्रि करीब 1:14 बजे एसडीएम शिकोहाबाद कर्मेद्र सिंह ने यह कहते हुए राहत कार्य को रुकवा दिया कि अब इस धराशायी बिल्डिंग के अंदर कोई मजदूर नहीं फंसा है। उन्होंने कहा कि सभी मजदूर घटना के दौरान भाग गए थे। जो फंसे थे, उनको निकाल लिया गया। इसके बाद पूरा प्रशासनिक अमला राहत कार्य रुकवाने के बाद चला गया।

मलबे को देखने उमड़े आसपास के ग्रामीण
सिरसागंज। कोल्ड स्टोर के मलबे और मलबे में दबी आलू की बोरियों को देखने के लिए शनिवार को दिनभर ग्रामीण उमड़ते रहे। ग्रामीणों का कहना था कि जब कोल्ड स्वामी ने इतनी कमजोर बिल्डिंग बनवाई थी और लाइसेंस नहीं था तो फिर आलू का इतना बड़ा स्टोर क्यों किया। ग्रामीण मलबे के करीब जाकर घटनाक्रम को जानने का प्रयास कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना लाइसेंस के चल रहा था कोल्ड स्टोर