DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाजपा की सभी जिला, महानगर तथा मंडल कमेटियां भंग

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  सूर्य प्रताप शाही ने पार्टी की सभी जिला, महानगर तथा मंडल इकाइयों को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया है। इसके साथ ही मोर्चो और प्रकोष्ठों की सभी जिला, महानगर तथा  मंडल इकाइयों को भी भंग कर दिया गया है। विधानसभा चुनाव परिणाम आने के ठीक एक महीने बाद लिए गए इस निर्णय को उत्तर प्रदेश में भाजपा की ‘ओवरहालिंग’ की दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

‘हिन्दुस्तान’ ने शनिवार को ही यह खबर छापी थी कि भाजपा में व्यापक फेरबदल की तैयारी चल रही है। विधानसभा चुनाव में पार्टी की दुर्गति से केन्द्रीय नेतृत्व खास तौर पर चिन्तित था क्योंकि उसने लोकसभा चुनाव के सेमीफाइनल की तरह उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव को लड़ा था। पार्टी का वोट प्रतिशत घटकर केवल 15 प्रतिशत रह जाएगा, इसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। इसीलिए परिणाम आने के बाद से पार्टी सन्निपात की स्थिति में चल गयी थी। पार्टी नेतृत्व ने हाल के दिनों में विधानसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के कारणों की सघन समीक्षा शुरू की थी। यह समीक्षा कई स्तरों पर चल रही थी। भाजपा के प्रदेश प्रभारी नरेन्द्र सिंह तोमर तथा पूर्व केन्द्रीय महामंत्री संगठन संजय जोशी ने लखनऊ में डेरा डालकर समीक्षा की। समीक्षा कमेटियों की रिपोर्ट आने के बाद जिला, महानगर तथा मंडल कमेटियों को भंग करने का निर्णय लिया गया है।

सूत्रों के अनुसार पार्टी नेतृत्व को इस बात की हैरानी है कि हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही द्वारा एक आदर्श प्रस्तुत करने के बावजूद पार्टी की प्रदेश कमेटी के किसी भी अन्य पदाधिकारी ने अभी तक अपना पद छोड़ने की इच्छा नहीं जतायी। कई पदाधिकारी चुनाव हार गए हैं लेकिन पद पर चिपके हुए हैं। ऐसी स्थिति में पार्टी नेतृत्व भाजपा और उसके मोर्चो और प्रकोष्ठों की प्रदेश इकाइयों को भी भंग करके नए पदाधिकारियों के हाथ में बागडोर सौंप सकती है। सूत्रों का कहना है कि आगामी निकाय चुनावों की चुनौतियों का सामना करने के लिए पार्टी तैयारी कर रही है। इसीलिए संगठनात्मक फेरबदल किया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भाजपा की सभी जिला, महानगर तथा मंडल कमेटियां भंग