DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेट्रो स्टेशनों पर महिला कांस्टेबलों ने संभाली कमान

अब साइबर सिटी में आने वाले पांचों मेट्रो स्टेशनों पर महिला कांस्टेबल मुस्तैद दिखेंगी। लंबे समय बाद मेट्रो थाने में महिला जवानों की तैनाती हुई है। एमजी रोड पर बढ़ती छेड़छाड़ व हुड़दंग की वारदातों के बीच काफी समय से महिला जवानों की तैनाती का दबाव था। हालांकि मेट्रो थाने को अभी भी पर्याप्त बल नहीं मिला है।

थाने को कुल 13 महिला जवान मिली हैं। इनमें एक हेड कांस्टेबल व 12 कांस्टेबल हैं। इन्हें मिलाकर कुल स्टाफ अब 22 हो गया है। महिला जवानों के अलावा एक एसएचओ, दो एसआई, एक एएसआई व पांच कांस्टेबल थाने में हैं। चौबीसों घंटे तैनाती के वायदे के बीच स्टाफ अभी भी कम है। पिछले साल अप्रैल में जब थाना खुला था। तब आला अधिकारियों ने 58 अधिकारियों व जवानों की तैनाती की बात की थी। इसके हिसाब से अभी 36 अन्य जवानों की नियुक्ति की आवश्यकता है। इंचार्ज ने बताया कि फिलहाल दो महिला कांस्टेबल एक मेट्रो स्टेशन में तैनात की जाएंगी।

शहर में पांच मेट्रो स्टेशन गुरू द्रोणाचार्य, सिकंदरपुर, एमजी रोड, इफको चौक व हुडा सिटी सेंटर हैं। मेट्रो पुलिस के लिए फिलहाल इफको चौक पर अस्थायी आधार पर थाने के लिए कुछ कमरे मुहैया कराए गए हैं। थाने के लिए भवन भी हुडा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन पर प्रस्तावित है। सीआईएसएफ के पास भी महिला जवानों की कमी है। ऐसे में राज्य पुलिस के महिला जवानों की तैनाती से महिलाओं को राहत तो मिलेगी ही।

अब भी 36 की जरूरत- मेट्रो थाने में जहां पांच पुरूष पुलिस अधिकारी हैं वहीं जवानों की संख्या महज चार है। यानी शहर के हर मेट्रो स्टेशन में एक कांस्टेबल की तैनाती भी संभव नही है। महिला जवानों की तैनाती की बात की जाए तो पांच मेट्रो स्टेशनों में दो-दो कांस्टेबल आठ घंटे की शिफ्ट ही कर सकती हैं। मेट्रो पुलिस के जिम्मेदार स्टेशनों की 24 घंटों की सुरक्षा है। ऐसे में अभी भी 36 जवानों की कमी है।

05 मेट्रो स्टेशन हैं शहर में
09 पुरूष अधिकारियों व जवानों की संख्या
13 महिला कांस्टेबल की तैनाती
58 का कुल स्टाफ प्रस्तावित है थाने के लिए
22 के स्टाफ पर पांचों स्टेशनों की जिम्मेदारी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेट्रो स्टेशनों पर महिला कांस्टेबलों ने संभाली कमान