DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिल्में स्टार से नहीं, स्टोरी से हिट होती हैं

2010 में प्रदर्शित कॉमेडी ‘हाउसफुल’ की सफलता के बाद साजिद खान उसका सीक्वल ‘हाउसफुल-2’ लेकर आए हैं, हालांकि इसमें सारे पात्र नए हैं, कहानी नई है। इसमें पहली बार उन्होंने तीन पुराने महारथियों- ऋषि कपूर, रणधीर कपूर और मिथुन चक्रवर्ती को लिया है, साथ ही इसमें असिन की भी एंट्री हो गई है।

‘हाउसफुल-2’ और दूसरे मसालों पर आइए जानते हैं साजिद की राय, उन्हीं की जुबानी।
ब्लॉकबस्टर होगी ‘हाउसफुल-2’
फिल्म इंडस्ट्री में हमें हमेशा तनाव व दबाव में ही काम करना पड़ता है। यदि फिल्म फ्लॉप हो जाए तो हिट फिल्म बनाने का दबाव और यदि हिट हो जाए तो फिर उससे बड़ी हिट फिल्म बनाने का दबाव होता है। दर्शकों की अपेक्षाएं बढ़ जाती हैं। हम तनावरहित होकर काम कर ही नहीं सकते।

मेरा मानना है कि अच्छी फिल्में हमेशा चलती हैं। हमें आईपीएल का कोई डर नहीं है। यदि मेरी फिल्म अच्छी नहीं होगी तो सोमवार से आगे नहीं चल पाएगी। मेरा दावा है कि ‘हाउसफुल-2’ ब्लॉकबस्टर साबित होगी।

अच्छी कहानी है सफलता का मंत्र
हाउसफुल की सफलता में केवल अक्षय कुमार का योगदान नहीं होगा। फिल्में कलाकार की बदौलत नही चलतीं। ‘थ्री इडियट्स’भी केवल आमिर खान के कारण सफल नहीं हुई थी, बल्कि ‘थ्री इडियट्स’ की वजह से आमिर खान हिट हुए थे। हर फिल्म अच्छी कहानी, अच्छी पटकथा, अच्छे निर्देशक और कलाकारों की पूरी टीम की बदौलत हिट होती है।

अलग है ‘हाउसफुल-2’
हाउसफुल और हाउसफुल-2 में सब कुछ अलग है। समानता सिर्फ इतनी है कि दोनों फिल्मों की घटना, पात्र सब एक बड़े घर के अंदर ही हैं। फिल्म ‘हाउसफुल -2’ चार पिता, चार बेटियों और चार होने वाले दामादों यानी पूरे एक दर्जन डर्टी लोगों के कारनामों की दास्तान है।

मिथुन दा मेरे फेवरेट हैं
मिथुन दा तो बचपन से मेरे नंबर वन स्टार रहे हैं। मैंने उनकी हर फिल्म देखी है। बचपन में मैं उनकी मिमिक्री किया करता था। उनकी ही तरह चलता भी था। इस फिल्म के एक अहम किरदार के लिए मुझे उनके जैसा कलाकार चाहिए था। मेरे अब तक के तीन फिल्म के निर्देशन के करियर में मिथुन दा ही एकमात्र कलाकार हैं, जिनके पैर मैने छुए हैं।

ऋषि व रणधीर कपूर के साथ काम करना सुखद अनुभव
मैं हमेशा यह सोच कर हैरान होता रहता था कि 70 के दशक के किसी भी निर्देशक ने ऋषि कपूर और रणधीर कपूर को एक साथ लेकर कोई फिल्म क्यों नहीं बनाई? हालांकि स्व. मनमोहन देसाई ने विनोद खन्ना व अमिताभ बच्चान के साथ ही ऋषि और रणधीर कपूर को लेकर एक फिल्म ‘गजब’की घोषणा की थी, जो बन नहीं पाई। एक दिन मैंने सोचा कि मैं इस काम को करके देखता हूं कि समस्या कहां आती है। पर मेरे लिए दोनों भाइयों को फिल्म के साथ जोड़ना एक सुखद अनुभव साबित हुआ।

‘अनारकली’ आइटम नंबर नहीं

जैसा कि लोग समझ रहे हैं, ‘अनारकली डिस्को चली’ कोई आइटम नंबर नहीं, बल्कि फिल्म की पटकथा का अंग है। मेरा अपना मानना है कि फिल्म में एक हिट गाना होना ही चाहिए और यह हिट गाना फिल्म के क्लाइमैक्स से पहले होना चाहिए।

अगली फिल्म में अक्षय व रितेश नहीं, अजय देवगन
मैं ‘हिम्मतवाला’ का रीमेक बनाने जा रहा हूं, जिसमें अक्षय कुमार व रितेश देशमुख की बजाय अजय देवगन हैं। इस तरह लंबे समय से अजय के साथ काम करने का मेरा सपना भी पूरा हो रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिल्में स्टार से नहीं, स्टोरी से हिट होती हैं