DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएड निजी कॉलेजों ने मांगा 15 फीसदी मैनेजमेंट कोटा

उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय एसोसिएशन ने प्रदेश के 1000 से ज्यादा बीएड कॉलेजों को 15 फीसदी मैनेजमेंट कोटा देने और बसपा सरकार के समय खत्म किए गए 10 फीसदी एनआरआई कोटे को बहाल करने की मांग की है। इसके लिए एसोसिएशन मुख्यमंत्री से मुलाकात कर उन्हें बीएड प्रवेश में आने वाली दिक्कतों आदि के बारे में जानकारी देगा।

बीएड का मैनेजमेंट कोटा 2005-06 तक रहा लेकिन इसके बाद कोटा खत्म कर दिया गया। अब एसोसिएशन के अध्यक्ष विनय त्रिवेदी, डॉ. मोहर सिंह यादव और बृजेश भदौरिया ने बताया कि अगर कॉलेजों को मैनेजमेंट कोटा मिलेगा तो इसमें क्षेत्रीय लोगों को लाभ मिल सकेगा।

उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में यह कॉलेज ग्रामीण अंचलों में स्थित हैं लेकिन यहां के छात्रों को इसका लाभ नहीं मिल पाता। इसके विपरीत जो छात्र दूरदराज शहरों से आकर यहां प्रवेश लेते हैं, वे मन लगाकर पढ़ाई नहीं कर पाते हैं। इनकी उपस्थिति कम रहती है। ऐसे में कॉलेज चाह कर भी गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने में पीछे रह जाते हैं।

एनआरआई कोटा बहाल करने की मांग करते हुए इनका कहना था कि 10 फीसदी एनआरआई कोटा देने के साथ इसमें यह शर्त लगा दी जाए कि अगर एनआरआई छात्र नहीं मिलते हैं तो मैनेजमेंट स्तर पर प्रवेश दिए जाएं। पारदर्शिता बरतने के लिए सरकार जैसे चाहे नियम बना सकती है।

सेल्फ फाइनेंस डिग्री शिक्षकों का संगठन : पहले से अस्तित्व में आ चुके सेल्फ फाइनेंस शिक्षकों के संगठन के समानान्तर एक नया संगठन अब अस्तित्व में आया है। उत्तर प्रदेश स्ववित्तपोषित महाविद्यालय शिक्षक संघ के नाम से बनाए गए इस संगठन के अध्यक्ष आगरा विवि के डॉ. डीएस यादव, सीएसजेएम विवि के डॉ. विवेक त्रिवेदी को बनाया गया है। संरक्षक डॉ. मोहर सिंह यादव होंगे। प्रदेश के हर विश्वविद्यालय से एक-एक शिक्षक कार्यकारिणी में होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीएड निजी कॉलेजों ने मांगा 15 फीसदी मैनेजमेंट कोटा