DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देहरादून से अपह्त बच्चों का नहीं मिला सुराग

देहरादून के दो अलग-अलग क्षेत्रों से अपह्त किये गये दो बच्चों का अभी तक पुलिस को कोई सुराग नहीं मिला है।

पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि विकासनगर के डाकपत्थर के एक स्कूल और जिला महिला अस्पताल से एक नवजात शिशु के अपहरण की गुत्थी अभी तक नहीं सुलझ पायी है। दोनों बच्चों का पता लगाने के लिये पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है।

सूत्रों के अनुसार देहरादून के विकासनगर थाने के तहत डाकपत्थर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर से गत मंगलवार को एक महिला ने चार वर्ष के एक बच्चे राजन का अपहरण कर लिया।

सूत्रों के अनुसार स्कूल में जब कल छुट्टी हो गयी थी तो अभिभावक अपने-अपने बच्चों को ले गये लेकिन चार वर्षीय राजन के अभिभावक वहां नहीं पहुंचे तो स्कूल की दाई उनका इंतजार करने लगी थी। इसी बीच वहां एक महिला पहुंची जिसने अपने को राजन की मौसी बताया और राजन को अपने साथ ले गयी।

सूत्रों ने बताया कि इसके थोडी़ देर बाद ही राजन की मां वहां पहुंची और राजन के बारे में पूछताछ की तो दाई ने बताया कि उसकी मौसी उसे अभी अभी यहां से लेकर गयी है। इस राजन की मां ने बताया कि उसकी कोई बहन नहीं है और वह अपने पति के साथ अकेली रहती है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि जब राजन की मां ने दाई को बताया कि उसकी कोई बहन नहीं है, इसके बाद ही पूरे स्कूल में हड़कम्प मच गया। पुलिस ने इस मामले की सूचना मिलते ही पूरे इलाके की घेराबंदी कर ली थी। हालांकि आज तक राजन और उसके अपहरणकर्ता की कोई सूचना नहीं मिली है।

सूत्रों के अनुसार राजन के पिता विनोद कंडारी डाकपत्थर स्थित एक बैंक में कार्यरत हैं। पुलिस ने इस मामले में स्कूलकर्मियों के अतिरिक्त आसपास के लोगों से पूछताछ की है। आशंका है कि बच्चों का अपहरण फिरौती के लिये किया गया है।

दूसरी ओर देहरादून के सरकारी महिला अस्पताल से अपह्त हुये दो दिन के नवजात शिशु का आज आठवें दिन भी कोई पता नहीं चला है।

पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि बच्चों की तलाश के लिये उस महिला का स्केच जारी किया गया है जो कथित रूप से बच्चों को लेकर गायब हो गयी थी। आशंका है कि इन दिनों देहरादून में बच्चों के अपहरण में शामिल कोई गिरोह सक्रिय हो गया है जो योजनाबद्ध तरीके से मासूम बच्चों का अपहरण कर रहा है। एक हफ्ते में दो बच्चों के अपहरण से स्थानीय लोगों में भारी रोष है।

सूत्रों के अनुसार बच्चों और उस महिला की तलाश के लिये लगातार कोशिश की जा रही है हालांकि आज तक इस सिलसिले में कोई भी सुराग नहीं मिला है।

सरकारी महिला अस्पताल में गत बुधवार को एक महिला ने खुद को नर्स बताते हुये एक नवजात शिशु को दवा देने के नाम पर उठा ले गयी थी। जब वह महिला काफी देर बाद भी नहीं लौटी तो शिशु की मां रूबी ने अन्य नर्सों से पूछताछ की तो उन लोगों ने इससे अपनी अनभिज्ञता प्रकट की।

सूत्रों के अनुसार सूचना मिलने के बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर मामले की जांच शुरू कर दी थी लेकिन आज आठवें दिन भी शिशु का कोई सुराग नहीं मिल सका है। सूत्रों ने बताया कि अभी तक दोनों मामलों में किसी को हिरासत में नहीं लिया गया है।

स्कूल से बच्चों को दिन दहाडे़ ले जाने के बाद स्थानीय अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन का घेराव किया और इसके लिये स्कूल की सुरक्षा व्यवस्था को जिम्मेवार ठहराया है। अभिभावकों ने बच्चों को तुरंत बरामद करने तथा दोषियों को गिरफ्तार करने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देहरादून से अपह्त बच्चों का नहीं मिला सुराग