DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रविन्द्र भूरा हत्याकांड में गवाह के बयान दर्ज

छह साल पहले कचहरी में दिनदहाड़े हुए रविन्द्र भूरा हत्याकांड में बुधवार को पहले गवाह वादी एसआई रेशम सिंह के बयान दर्ज किए गये। वादी रेशम सिह काफी लंबे समय से अदालत से गैरहाजिर चल रहे थे। अदालत ने उसके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी कर रखा था। रविन्द्र भूरा हत्याकांड मामले की सुनवाई सेशन न्यायाधीश कोर्ट संख्या-16 ओंकार सिंह की अदालत में चल रही है। अभियुक्तगण की तरफ से उनके अधिवक्ता वी के शर्मा ने कोर्ट में वादी रेशम सिंह से जिरह की। गौरतलब है कि 16 अक्टूबर 2006 को दोपहर के समय करीब एक बजे बदमाशों ने जेल से पेशी पर आये रविन्द्र भूरा व उसके भतीजे गौरव मलिक की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस मामले में पुलिस की गोली से बदमाश राजेन्द्र उर्फ चुरमुट भी मारा गया था। दिनदहाड़े कचहरी के  मुख्य चौराहे पर होने वाली इस घटना में सात अन्य राहगीर भी घायल हुए थे। मुठभेड़ में कांस्टेबल मनोज की भी बदमाशों की गोली लगने से मौत हो गयी थी। घटना के संबध में एसआई रेशम सिंह ने थाना सिविल लाईन में हत्या का मामला दर्ज कराया था। इस मामले में पुलिस ने अजय जडेजा, अजय मलिक उर्फ जंगू, आजाद, गुलाब उर्फ फौजी, सुशील उर्फ बन्दू, चन्द्रवीर व यशवीर के खिलाफ अदालत में 21 नवंबर 2006 को आरोप-पत्र दाखिल किया था। मामले में अभियुक्त चन्द्रवीर की मृत्यु हो चुकी है जबकि अभियुक्त यशवीर की पत्रवली अलग कर दी गयी है। अदालत ने सभी अभियुक्तगण के खिलाफ 4 अक्टूबर 2007 को आरोप बनाया। घटना के करीब छह साल बाद इस मामले में बुधवार को वादी एसआई रेशम सिंह के बयान दर्ज कर उससे बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने जिरह की। अदालत ने अब इस मामले में आगे की सुनवाई के लिये 24 अप्रैल की तिथि नियत की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रविन्द्र भूरा हत्याकांड में गवाह के बयान दर्ज