DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली से चलेंगी ट्रेनें, बढ़ेगी सहूलियत

खुर्जा-मेरठ सेक्शन में रेलवे विद्युतीकरण कार्य पूरा कराने और 25 हजार किलोवाट करंट छोड़ने के बाद अब रेलवे का ध्यान मेरठ-गाजियाबाद रेल मार्ग पर केंद्रित हो गया। लगभग विद्युतीकरण कार्य पूरा हो चुका है। दो स्थानों पर बिजली घर निर्माण तेजी हो रहा है। इसके बाद लाइन को 25 हजार किलोवाट बिजली से चार्ज कर दिया जाएगा। इसमें कम से तीन से चार और अधिकतम आठ महीने का समय लग सकता है।


रेल विद्युतीकरण कार्य टीम के मुताबिक 31 मार्च को खुर्जा-मेरठ रेल बिजली लाइन को 25000 किलोवाट क्षमता से चार्ज कर दिया था। अब तैयारी है बिजली से ट्रेन चलाने की। जीएम विद्युतीकरण इलाहाबाद पिछले दिनों दौरे पर आए थे। उन्होंने दावा किया था कि पहले बिजली से मालगाड़ी चलाएंगे, फिर यात्री ट्रेनें।


खुर्जा-मेरठ रेल मार्ग के बाद अब फोकस मेरठ-गाजियाबाद है। यह कार्य लगभग पूरा होने को है। दो स्थानों पर बिजली घर बन रहे हैं। तार चोरी की घटनाओं के मद्देनजर सभी लाइनों में इस समय करंट है। फिर मेरठ-सहारनपुर को शामिल करेंगे।


रेलवे अधिकारिक सूत्रों की माने तो खुर्जा-मेरठ के बीच लगभग तैयारी पूरी हो चुकी है। सीआरएस की हरी झंडी का इंतजार है। मुरादाबाद डिवीजन ने स्वीकृति के लिए फाइल रेलवे मुख्यालय दिल्ली भेजी हुई है।

दो स्थानों से होगी बिजली आपूर्ति
गाजियाबाद-मेरठ इलेक्ट्रिक लाइन को बीच से मोदीनगर व गुलधर स्टेशन से बिजली आपूर्ति होगी। मेरठ व गाजियाबाद से इसको जोड़ा जाएगा। इसके लिए दोनों स्थानों पर 66/25 केवीए के सब स्टेशन बनाए जा रहे हैं। कार्य तेजी से चल रहा है। इसी तरह मेरठ-सहारनपुर के बीच भी बिजली आपूíत के लिए बिजलीघरों का निर्माण कराया जा रहा है।

बढ़ जाएगी ट्रेनों की संख्या
विद्युतीकरण कार्य पूरा होते ही बिजली से ट्रेनें चलाई जाएंगी। गाजियाबाद तक आने वाली ईएमयू को मेरठ तक कर दिया जाएगा, जबकि कुछ ट्रेनों को खुर्जा से वाया मेरठ-दिल्ली चलाया जाएगा।

किस सेक्शन में बिजली से कब चलेंगी ट्रेन
खुर्जा-मेरठ : जून 2012 तक
मेरठ-गाजियाबाद  : दिसंबर 2012 तक
मेरठ-सहारनपुर : मार्च 2013 तक

नोट :- खुर्जा-मेरठ सेक्शन में बिजली से ट्रेन चलाने के लिए सीआरएस की हरी झंडी का इंतजार है। रेल विद्युतीकरण लाइन को पूरी क्षमता से चार्ज कर सभी तैयारियां 31 मार्च को पूरी कर ली गई हैं।

इनका कहना है
31 मार्च को ही खुर्जा-मेरठ के बीच रेल की लाइन में 25000 किलोवाट क्षमता का करंट प्रवाहित हो गया था। अब अन्य तैयारियां हो रही हैं। इस ट्रैक पर बिजली से ट्रेन जून 2012 तक चल जाएंगी। इसके अलावा मेरठ-गाजियाबाद ट्रैक पर इस साल के अंत तक और मेरठ-सहारनपुर के बीच अगले साल ट्रेन बिजली से चल जाएंगी।
आरके सिंह, उपमुख्य रेल विद्युतीकरण

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिजली से चलेंगी ट्रेनें, बढ़ेगी सहूलियत