DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

केमिकल से भरे ड्रमों में मिले हजारों समुद्री जीव-जंतु

नगला पदी न्यू (आगरा) में बुधवार की दोपहर मेनका गांधी की संस्था पीपुल्स फॉर ऐनीमल की सूचना पर छापेमारी कर हजारों की संख्या संरक्षित समुद्री जीव बरामद किए गए। एक घर में बने बायोक्राफ्ट साइंटिफिक सिस्टम के कार्यालय और गोदाम पर छापा मारा गया था। वहाँ जीवों से भरे दजर्नों ैदेखकर पुलिस की आंखें फटी की फटी रह गईं। पुलिस को यह कहकर वापस लौटाने का प्रयास किया गया कि पूरा काम कानून के तहत किया जा रहा है। जीवों की सप्लाई देशभर के स्कूल-कॉलेजों की प्रयोगशालाओं में होती है। उनकी कंपनी आईएसओ सर्टीफाइड है। छानबीन में ऐसे सम्रुदी जीव मिलने लगे जो संरक्षित हैं। घटती संख्या के चलते उन्हें शिडय़ूल वन में रखा गया है।

दिल्ली से आए पीएफए के गौरव गुप्ता और पूजा महाजन ने बताया कि फरवरी में दिल्ली स्थित आचार्य नरेंद्र देव व ग्रीन फील्ड कॉलेज की जूलोजी लैब में छापेमारी की कार्रवाई हुई थी। वहाँ बड़ी संख्या में संरक्षित सम्रुदी जीव कांच के जार में रखे हुए मिले थे। उनसे पूछताछ में यह खुलासा हुआ था कि जीवों की सप्लाई आगरा से होती है। इस संबंध में मेनका गाँधी ने उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड आर्डर जगमोहन यादव से संपर्क किया। उनके निर्देश पर छापा मारा गया।

पुलिस ने सुबह उस घर को घेर लिया था जहां संरक्षित जीवों का अवैध कारोबार चल रहा था। करीब सात सौ गज में बने मकान में दो कमरे जीव-जन्तुओं के ड्रमों से भरे हुए थे। मरे हुए जीव-जन्तुओं को सुरक्षित रखने के लिए ड्रमों में केमिकल (फार्मलीन) भरा गया था। पुलिस ने कार्रवाई के दौरान गोदाम संचालक सिविल लाइंस निवासी रमेश महाजन और उनके बेटे मनु महाजन को हिरासत में ले लिया। जब्त जीव-जन्तुओं के ड्रमों को न्यू आगरा थाने लाया गया। खबर मिलते ही वन विभाग के अधिकारी भी मौके पर आ गए। देर रात तक बरामद जीव-जंतुओं की गिनती का सिलसिला चलता रहा। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार पिता-पुत्र के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धाराओं के तहत मुकदमा लिखा जा रहा है। पुलिस ने बताया कि अपराध गैर जमानतीय हैं। आरोप साबित होने पर इसमें सात साल की सजा और जुर्माने का प्रावधान है।


क्या-क्या हुआ बरामद
आगरा। शिडय़ूल वन के तहत संरक्षित गैंगिफ स्प्रिंग रे करीब आठ हजार। थार्नी रे करीब 45 हजार। कोरल पत्थर करीब 800। शिडय़ूल चार के तहत संरक्षित समुंद्री शंख (मोलस्का) 500। मेढ़क 200। सफेद चूहे करीब 80। पीएफए के गौरव गुप्ता ने बताया कि यह संख्या उन जीवों की है जिनके ड्रम जब्त करके थाने लाए गए थे। गोदाम में मौजूद ड्रमों में रखे जीवों की संख्या लाखों से ऊपर निकलेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:केमिकल से भरे ड्रमों में मिले हजारों समुद्री जीव-जंतु