DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नोनहरा कांड में एसओ व सिपाही को जेल

 गाजीपुर। निज संवाददाता

बहुचर्चित नोनहरा कांड में आरोपित तत्कालीन नोनहरा एसओ व सिपाही को जेल भेज दिया गया। मंगलवार को एसीजेएम की अदालत ने उनकी जमानत याचिका खारिज कर दी। विशेष न्यायाधीश (एससी-एसटी एक्ट) चार अप्रैल को उनकी अर्जी पर सुनवाई करेंगे। आरोपित एसओ फिलहाल वाराणसी में एलआईयू व सिपाही आजमगढ़ के जहानागंज थाने में तैनात है। बताते हैं कि नोनहरा गांव में पट्टीदारों के बीच भूमि विवाद था। आरोप है कि 21 अक्टूबर, 2007 को एक पक्ष को कब्जा दिलाने तत्कालीन एसओ अनिल पांडेय शिवकुमारी देवी के घर धमके।

उसके पति हनुमान यादव ने अपनी भूमि पर पट्टीदारों को कब्जा देने से इनकार किया तो पुलिस ने उसकी पिटाई की। वादी शिवकुमारी देवी ने कोर्ट में प्रार्थना पत्र देते हुए एसओ अनिल पांडेय, एसआई केके श्रीवास्तव, सिपाही दिनेश यादव व अन्य पुलिसकर्मियों पर घर में घुसकर मारपीट, तोड़फोड़ व जेवरात लूटने का आरोप लगाया था।अदालत ने परिवाद दाखिल करते हुए एसओ नोनहरा समेत अन्य आरोपितों को नोटिस जारी किया। एसआई केके श्रीवास्तव सहित 22 अन्य आरोपितों ने इस मामले में पहले जमानत करा ली है। एसओ अनिल पांडेय व सिपाही दिनेश यादव कई तिथियों पर कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। अदालत ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करते हुए डीजीपी को पत्र लिखा। मंगलवार को दोनों आरोपितों ने आत्मसमर्पण कर दिया। उनकी ओर से जमानत प्रार्थना पत्र भी प्रस्तुत किया गया। इसे एसीजेएम ने खारिज करते हुए दोनों को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया। इसके बाद पुलिसकर्मियों ने विशेष न्यायाधीश एससी एसटी एक्ट विनय कुमार श्रीवास्तव की अदालत में जमानत के लिए प्रार्थना पत्र दिया। विशेष न्यायाधीश ने सुनवाई के लिए चार अप्रैल की तिथि निर्धारित की है। कोर्ट के आदेश पर दोनों आरोपित पुलिसकर्मियों को जिला जेल ले जाया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नोनहरा कांड में एसओ व सिपाही को जेल