DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शिक्षिका की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या

शिकोहाबाद क्षेत्र में मंगलवार को बाइक सवारों ने महिला शिक्षिका को गोलियों से भून दिया। वह स्कूटी पर स्कूल से वापस घर जा रही थी। घटना को अंजाम दे हमलावर फरार हो गए। गोलियों की आवाज से क्षेत्र में सनसनी फैल गई। वहां पर आसपास के लोग एकत्रित हो गए। गुस्साए लोगों ने जाम लगाकर काफी हंगामा काटा। तीन घंटे रोषित लोगों ने शव नहीं उठने दिया। बाद में डीएम एसपी मौके पर पहुंचे। उनके आश्वासन के बाद पुलिस ने शव अस्पताल भिजवाया। 


 शम्भूनगर निवासी श्वेता पत्नी स्वर्गीय जितेन्द्र डडियामई प्राथमिक पाठशाला में सहायक अध्यापिका थी। वह मंगलवार को बोर्ड परीक्षा की डय़ूटी देने के बाद सुबह पूर्वाह्न 11 बजे के करीब डडियामई इंटर कॉलेज से स्कूटी पर सवार होकर घर जा रही थी। स्कूल से कुछ ही दूरी पर बाइक सवारों ने शिक्षिका पर ताबड़तोड़ गोलियां दाग दीं। गोली लगने से वह घायल होकर गिर पड़ी। घटना को अंजाम दे हमलावर फरार हो गए। वह अपने पिता महीपाल के साथ रहती थी। उसके पिता डडियामई इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य हैं। कुछ ही पलों में उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बाद में वहां काफी लोग एकत्रित हो गए।
दिनदहाड़े शिक्षिका की हत्या से क्षेत्र में सनसनी फै ल गई। गुस्साए लोगों ने हाइवे को जाम कर दिया। लोगों ने जमकर हंगामा काटा। पता चलते ही एएसपी रतनकान्त पाण्डे मौके पर पहुंच गए। सिरसागंज के विधायक हरिओम यादव भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने आक्रोशित लोगों को समझाने का काफी प्रयास किया, मगर वह टस से मस नहीं हुए। तीन घंटे तक पुलिस के काफी प्रयासों के बाद भी लोगों ने जाम नहीं खोला। बाद में डीएम सुरेन्द्र सिंह व एसपी एलआर कुमार मौके पर पहुंचे। उनके आश्वासन के बाद लोगों ने वहां से शव को उठने दिया।


लोगों में बीएसए के खिलाफ था गुस्सा
फिरोजाबाद। डडियामई में शिक्षिका की हत्या को लेकर लोगों में काफी उबाल था। शिक्षिका की हत्या को लेकर वहां एकत्रित हुए शिक्षक नेताओं ने बीएसए के खिलाफ आक्रोश जताया। नेताओं का आरोप था कि सुविधा शुल्क के चक्कर में महिलाओं का बिना सोचे समङो दूरदराज के क्षेत्रों में स्थानान्तरण कर दिया जाता है। जहां पर न तो आने जाने के ठीक साधन हैं न महिलाओं की सुरक्षा की कोई व्यवस्था है। पन्द्रह दिनों में शिक्षिकाओं पर गोलियां दागने की यह दूसरी घटना है।


प्रभारी निरीक्षक के खिलाफ दिखा रोष
फिरोजाबाद। शिक्षिका की हत्या के विरोध में लोगों द्वारा हाइवे पर लगाए गए जाम से तीन घन्टे तक यातायात पूरी तरह से बाधित हो गया। पुलिस ने कई बार शव को वहां से उठाने का प्रयास किया, पर गुस्साए लोगों ने शव को नहीं उठने दिया। प्रभारी निरीक्षक को लेकर भी लोगों में काफी उबाल देखने को मिला। लोगों का आरोप था कि शिकोहाबाद में आए दिन वारदातें हो रही हैं। पहले भी एक शिक्षिका पर गोलियों की बौछार हो चुकी है। उस मामले में भी पुलिस अभी तक किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंची है। गुस्साए लोगों ने प्रभारी निरीक्षक को निलम्बित करने की मांग की। बाद में डीएम व एसपी ने आश्वासन दिया कि दो दिन में हत्यारों को पकड़ लिया जाएगा। उसके बाद ही लोग जाम खोलने पर राजी हुए।


काफी संघर्षमय रहा जीवन
फिरोजाबाद। शादी के बाद से ही श्वेता का जीवन काफी संघर्ष में बीता। शादी के एक वर्ष के बाद ही उसके पति जितेन्द्र की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। उसकी बीमारी पर काफी रुपया खर्च हुआ, जिससे वह कजर्दार हो गई। कर्जा चुकाने के लिए उसको अपनी जायदाद बेचनी पड़ी। इन दिनों वह अपने पिता के पास रह रही थी।


अपने पिता के पास रहती थी श्वेता
 फिरोजाबाद। श्वेता का पति अकेला लड़का था। श्वेता की चार ननदें हैं, जिनमें से दो की शिकोहाबाद में शादी हुई है। दो शिकोहाबाद से बाहर ब्याही हैं। घर में कोई न होने के कारण ही वह अपने पिता महीपाल के पास रहती थी। लोगों का मानना है कि हत्या जायदाद को लेकर हो सकती है। पुलिस मामले की तहकीकात कर रही है। बरहाल शिक्षिका की हत्या को लेकर तरह तरह की चर्चाएं बनी हुई हैं।


शीघ्र पकड़े जाएंगे हत्यारे
फिरोजाबाद। एसपी एलआर कुमार का कहना था कि पुलिस मामले की तहकीकात कर रही है। शीघ्र ही शिक्षिका के हत्यारों को गिरप्तार कर लिया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शिक्षिका की दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या