DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बक्सर में नीतीश को मिला एडमिशन से पहले रिजल्ट

बक्सर प्रमोद कुमार चौबे। सूबे के उच्च शिक्षण संस्थानों में छात्रों के भविष्य के साथ किस तरह खिलवाड़ किया जाता है, इसका ताजा उदाहरण वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के एमबीए थर्ड सेमेस्टर का रिजल्ट है। विश्वविद्यालय ने छात्रों के एडमिशन की तिथि से पहले की तारीख में अंकपत्र जारी कर दिया।

इन अंकपत्रों को देखते ही छात्रों के होश उड़ गये।जिला मुख्यालय की शिक्षक कालोनी के रहने वाले नीतीश कुमार ने वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के एमबीए कोर्स में नवम्बर 2009 में एडमिशन लिया था। थर्ड सेमेस्टर की परीक्षा उसने अगस्त 2011 में दिया।

नीतीश का रौल नम्बर 09000089 है। थर्ड सेमेस्टर का रिजल्ट मार्च में घोषित किया गया। जब अंकपत्र लेने नीतीश विश्वविद्यालय गया तो अंकपत्र पर अंकित तिथि देखकर उसके होश फाख्ता हो गए, क्योंकि अंकपत्र पर परीक्षा में शामिल होने की तिथि मई 2009 और रिजल्ट जारी करने की तिथि अगस्त 2009 अंकित थी। इतना ही नहीं अंकपत्र में और भी बहुत सी त्रुटियां हैं।

इनको सुधरवाने के लिए नीतीश को विश्वविद्यालय का चक्कर लगाना पड़ रहा है। नीतीश तो ऐसे मामले का नजीर भर है, ऐसे और कई छात्र-छात्राएं हैं, जिन्हें विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग की इन कारगुजारियों से परेशान होना पड़ता है।

इन छात्रों को यह समझ में नहीं आता कि एक ओर जहां राज्य सरकार शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए लगातार कसरत कर रही है, वहीं छात्रों के भविष्य के साथ ऐसा खेल खेला जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बक्सर में नीतीश को मिला एडमिशन से पहले रिजल्ट