DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रस्तावकों को आइटी भेजेगा नोटिस

रांची हिन्दुस्तान ब्यूरो। राज्यसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी आरके अग्रवाल के नामांकन के दौरान प्रस्तावक बने विधायकों को आयकर विभाग नोटिस भेजेगा। विधायकों को सम्मन कर उनसे पूछताछ की जा सकती है। इसके लिए आयकर विभाग अपने लीगल सेल से सलाह ले रहा है। आयकर सूत्रों ने यह जानकारी दी है।

झामुमो के दस विधायक आरके अग्रवाल के प्रस्तावक बने थे। आयकर विभाग ने लीगल सेल से यह जानना चाहा है कि नोटिस भेजने से विधायकों के लिए विशेषाधिकार का मामला बनता है अथवा नहीं। बताते चलें कि बीते शुक्रवार को आयकर विभाग ने रांची के नामकुम इलाके से एक इनोवा गाड़ी से 2.15 करोड़ रुपये जब्त किए थे।

रुपये आरके अग्रवाल के समधी आरके साहा के थे। आशंका जतायी जा रही है कि राज्यसभा चुनाव में हॉर्सट्रेडिंग के लिए रुपये जमशेदपुर से रांची भेजे जा रहे थे। चुनाव में हॉर्सट्रेडिंग की आशंका के बाद चुनाव आयोग ने इसे रद्द कर दिया था।

क्या जानना चाहता है आयकर विधायकों से : आयकर विभाग इन विधायकों से यह जानने का प्रयास करेगा कि किन परिस्थितियों में इन लोगों ने निर्दलीय उम्मीदवार आरके अग्रवाल का प्रस्तावक क्यों बने? जब दल के अधिकृत प्रत्याशी चुनाव मैदान में थे, तो आरके अग्रवाल का प्रस्तावक बनने की जरूरत क्यों पड़ी?

निर्दलीय उम्मीदवारों को भी किया जायेगा तलब : आयकर सूत्रों ने बताया कि निर्दलीय उम्मीदवारों को भी विभाग तलब करेगा। उनसे भी पूछताछ करने की तैयारी की जा रही है। बताते चलें कि आरके अग्रवाल के अलावा कोलकाता के व्यवसायी पवन धूत को भी आयकर सवालों से घेरेगा।

सूचना है कि नामांकन करने वाले अंशुमान मिश्र से भी आयकर पूछताछ करने के मूड में है। अंशुमान ने हालांकि बाद में चुनाव से अपना नाम भाजपा आलाकमान के दबाव में वापस ले लिया था। बाबूलाल ने मुख्य चुनाव आयुक्त को लिखा पत्ररांची। झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र लिखा है।

इसमें कहा गया है कि चुनाव आयोग के उचित कदम से लोकतंत्र और मजबूत हुआ है। झारखंड में हुए राज्यसभा चुनाव में अवैध धन के इस्तेमाल पर अंकुश लगा है। 30 मार्च को हुए मतदान पर रोक लगने से लोकतंत्र की छवि दागदार होने से बच गई। आम जनता का भी विश्वास चुनाव आयोग के प्रति बढ़ा है।

उन्होंने लोकसभा और विधानसभा में भी अवैध धन के आदान-प्रदान पर रोक लगाने का आग्रह किया है। मरांडी ने चुनाव आयोग से इसकी जांच सीबीआइ से कराने की मांग की है।

आयोग अपने फैसले पर विचार करे: बलमुचू

रांची। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी प्रदीप कुमार बलमुचू ने चुनाव रद्द करने के संबंध में चुनाव आयोग से एक फिर विचार करने की अपील की है। कहा कि लोकतंत्र में मतदान के बाद मतगणना होनी चाहिए।

यदि कदाचार को कोई मामला आता है, तो आयोग कार्रवाई के लिए स्वतंत्र है। इस बीच शनिवार सुबह वह दिल्ली गए। वहां केंद्रीय नेताओं से मिले और विचार-विमर्श किया। बलमुचू ने राष्ट्रपति व चुनाव आयोग को फैसले पर विचार करने के लिए पत्र लिखा है। साथ ही अदालत का दरवाजा भी खटखटाने का रास्ता भी तलाश रहे हैं।

राज्य की छवि धूमिल हुई : सीएम

रांची। मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि राज्यसभा चुनाव में पैसे का खेल उजागर होने के बाद चुनाव रद्द होने की घटना से राज्य की छवि धूमिल हुई है। इस पर प्रतिनिधियों को गहन विचार करना चाहिए। चुनाव आयोग ने सारी स्थितियां स्पष्ट कर दी हैं।

कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि इन स्थितियों के लिए वे लोग जिम्मेवार हैं, जो पिछले चुनाव में भी हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा दिए। पिछले चुनाव में भी इस तरह की बात सामने आई थी। सीबीआइ जांच कराने के सवाल को मुंडा टाल गए। कहा कि सीएनटी पर विपक्ष बहस कराना नहीं चाह रहा था।

आरोप-प्रत्यारोप की जांच होनी चाहिए : सुदेश

रांची । डिप्टी सीएम सुदेश कुमार महतो ने कहा कि राज्यसभा चुनाव को लेकर उठ रहे सवालों की जांच होनी चाहिए। आरोप-प्रत्यारोप भी खूब लग रहे हैं। निश्चित तौर पर राज्य की छवि को नुकसान पहुंचा है।

इस पर विधायकों को गहन चिंतन करना चाहिए। साथ ही राज्य की छवि सुधारने के लिए भी जनप्रतिनिधियों और राजनीतिक दलों को कदम उठाना चाहिए। राज्य की छवि के लिए हॉर्स ट्रेडिंग ठीक नहीं है।

राशि पकड़ाना गंभीर चिंता का विषय है। इस पर सभी दलों को गंभीरता से मंथन करने की जरूरत है। साथ ही इसके लिए जिम्मेवार लोगों की भी जांच होनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रस्तावकों को आइटी भेजेगा नोटिस