DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छाता में भी प्रत्याशी का भाजपाई नहीं दे सके साथ

विधानसभा चुनाव में मथुरा और मांट ही नहीं छाता में भी भारतीय जनता पार्टी का प्रत्याशी को अपने ही वोट नहीं दिला सके। आपसी टसल और अंर्तकलह के चलते वह अपनों के ही बूथों से वोटों से पिछड़ने के बाद अपने मत प्रतिशत को बढ़ा नहीं सका।  हाल ही में विधानसभा चुनावों में मिली हार के बाद पार्टी हाईकमान पचा नहीं पा रहा है सूत्रों की मानें तो हाईकमान इसकी  समीक्षा कर रही है। विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण के समय से ही आपसी अंर्तकलह शुरु हो गयी। इसका कारण टिकट का वितरण देरी से होना रहा।

छाता विधानसभा क्षेत्र से भी पार्टी के कई पार्टी पदाधिकारी,कार्यकर्ता टिकट की लाइन में थे। इसमें रघुवर सिंह तोमर, निर्भय पाण्डेय, राजवीर शर्मा, भानुप्रताप सिंह, हेमंत गुजर्र आदि थे। इन सभी पर विचार करने के बाद पार्टी हाईकमान ने तरुण सेठ को प्रत्याशी घोषित कर दिया। इसके बाद से ही अंर्तकलह खुल कर सामने आने लगी, कुछ पार्टीजन तो साथ रह कर ही विरोध करते रहे। हेमंत गुजर्र ने तो निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ते हुए पार्टी के प्रत्याशी तरुण सेठ से ज्यादा मत प्राप्त किये। जबकि पार्टी प्रत्याशी तरुण सेठ को पार्टी जिलाध्यक्ष रघुवर सिंह तौमर, हरीसिंह व महावीर सिंह पटेल के गांव बरहाना, हरीपुरा के बूथ संख्या 104 से केवल 15 वोट मिले, यहां रालोद के तेजपाल को सबसे अधिक 529 वोट मिले। जिला मंत्री निर्भय पाण्डेय, चुनाव संयोजक रहे राजवीर शर्मा के  गांव खायरा स्थित बूथ 144 पर मात्र 13 वोट, पार्टी से टिकट मांगने वाले ठा. भानु प्रताप सिंह के गांव बुखरारी के बूथ संख्या 12 से 7 वोट, भाजपा पार्टी के गौ संबर्धन प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष नंदलाल शर्मा के गांव चिकसौली के बूथ संख्या 174 से सात वोट, पार्टी से टिकट मांग रहे नंदगांव के ताराचंद्र गोस्वामी के बूथ संख्या 152 से पांच वोट ही मिले। यह तो नमूना मात्र हैं। भाजपा प्रत्याशी को अन्य पार्टी कार्यकर्ताओं के यहां से भी हार का सामना करना पड़ा । यही कारण रहा कि उन्हें केवल सात हजार से कुछ अधिक ही वोट मिले। इस बारे में प्रत्याशी तरुण सेठ ने बताया कि पार्टी कार्यकर्ता व पदाधिकारियों के यहां से वोट न मिलने से स्पष्ट है कि प्रचार प्रसार भी कैसा रहा उसके साथ। इस मामले पर हाईकमान समीक्षा कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छाता में भी प्रत्याशी का भाजपाई नहीं दे सके साथ