DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहर को सुविधा से ज्यादा आफत देगा छह लेन हाईवे प्रोजेक्ट

गुड़गांव नेशनल हाईवे पर तीन जगह फ्लाईओवर नहीं बनाने से वहां लंबे जाम के रूप में सामने आ रही परेशानी से नेशनल हाईवे अथॉरिटी आफ इंडिया (एनएचआईए) सबक नहीं ले रहा है। फरीदाबाद के छह लेन प्रोजेक्ट में उसने 29 जगहों पर फ्लाईओवर बनाने से मुंह फेर लिया है। यानी गुड़गांव के बाद फरीदाबाद के लोग इस समस्या का सामना करेंगे।
तस्वीर साफ है।

जब तीन जगह फ्लाईओवर नहीं बनने से गुड़गांव की हालत खराब है तो 29 जगह फ्लाईओवर नहीं बनने पर फरीदाबाद की ट्रैफिक और स्थानीय लोगों की हालत कैसी होगी? इससे अंदाजा लगाया जा सकता है। यानी नेशनल हाईवे का छह लेन प्रोजेक्ट सुविधा से ज्यादा शहरवासियों के लिए आफत लेकर आ सकता है। मेट्रो को लेकर दिल्ली मेट्रो रेल कारपोरेशन (डीएमआरसी) और एनएचआईए के बीच झगड़े के बाद यह सवाल फिर सामने आ गया है। मेट्रो के बाद शुरू होने वाले एनएचआईए के निर्माण से पहले प्रशासन सक्रिय होने लगा है। लोगों की सुविधा को देखते हुए आठ की जगह फरीदाबाद में 29 जगहों पर फ्लाईओवर बनवाने की मांग उठी है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को इस तकनीकी पेच से अवगत करवाया गया है।


सूत्रों के मुताबिक इस मुद्दे पर हरियाणा की मुख्य सचिव ने केंद्रीय सरकार से बातचीत भी शुरू कर दी है। तर्क यह है कि अगर एनएचआईए की ड्राइंग में बदलाव नहीं किया गया तो दिल्ली से फरीदाबाद में प्रवेश करने वाले राहगीर परेशानी से शहर को पार कर जाएंगे, लेकिन लोगों को कई किलोमीटर का लंबा सफर तयकर गंतव्य तक पहुंचना होगा। बदरपुर से बल्लभगढ़ तक नेशनल हाईवे के साथ जुड़ने वाले जिले के करीब 29 प्वाइंट हैं, जहां से हर रोज लाखों राहगीर हाईवे को क्रास करते हैं। जिले के करीब 24 किलोमीटर हाईवे पर आठ जगह फ्लाईओवर बनना प्रस्तावित है। ट्रैफिक की समझ रखने वाले लोगों का कहना है कि जरूरत के मुताबिक फ्लाईओवर नहीं बने तो शहर में ट्रैफिक की समस्या खड़ी हो जाएगी। एनसीआर में तेजी से उभरते इस शहर की गति धीमी पड़ जाएगी। क्योंकि दूसरे शहरों से मजबूत कनेक्टिविटी विकास का नया मापदंड बन गया है। जिस शहर में यह सुविधा है, उसके विकास की रफ्तार दूसरे शहरों के मुकाबले ज्यादा है।

जिले की स्थिति
फ्लाईओवर : 16
ओवरपास :3
वाहन अंडरपास : 14
टोल प्लाजा : 3
छोटे बड़े ब्रिज : 9
सब सेल्टर : 23
फरीदाबाद में हाईवे के साथ लगते गांव : 12
पलवल में हाईवे के साथ लगते गांव : 21
हाईवे क्रास करने वाली पुलिया : 14
हाईवे क्रास करने वाली नहर : 1
फरीदाबाद और पलवल में प्रोजेक्ट की लंबाई : 73.30 किलोमीटर
जिला फरीदाबाद में प्रोजेक्ट की लंबाई : 23.70 किलोमीटर
जिला पलवल में प्रोजेक्ट की लंबाई : 49.60 किलोमीटर


फरीदाबाद में प्रस्तावित फ्लाईओवर
-एनएचपीसी चौक
-बड़खल चौक
-ओल्ड फरीदाबाद चौक
-अजरौंदा चौक
-बाटा चौक
-बल्लभगढ़

फरीदाबाद में प्रस्तावित बस सेल्टर
-बदरपुर
-बदरपुर बार्डर
-एनएचपीसी चौक
-बड़खल चौक
-ओल्ड फरीदाबाद
-नीलम चौक
-बाटा चौक
-वाईएमसीए
-बल्लभगढ़

हाईवे के साथ लगते फरीदाबाद के गांव
-सराय ख्वाजा

-मेवला महाराजुपर
-फरीदाबाद
-फतेहपुर चंदीला
-दौलताबाद
-अजरौंदा
-मुजेसर
-बल्लभगढ़
-रन्हैड़ा
-झाडसेंतली
-कैली गांव
-सिकरी

डॉ. राकेश गुप्ता, उपायुक्त : एनएचएआई के छह लेन प्रोजेक्ट में कुछ बदलाव करवाने के लिए सुझाव दिए गए हैं, जिसमें करीब 29 जगह फ्लाईओवर की जरूरत फरीदाबाद में महसूस की गई है। जबकि एनएचएआई आठ जगह फ्लाईओवर बना रहा है, जोकि कम है। क्योंकि वाहनों के बढ़ते घनत्व और भविष्य को देखते हुए जो स्थानीय लोगों की सुविधा के लिए बेहद जरूरी भी है।

रोहित बलूजा, प्रधान, इंस्टीट्यूट ऑफ रोड ट्रैफिक एजुकेशन : फरीदाबाद शहर की ट्रैफिक पर किसी का ध्यान नहीं है। यहां पहले ही हालत चिंताजनक है। अगर नेशनल हाईवे पर फ्लाईओवर नहीं बने तो स्थिति विस्फोटक हो सकती है। क्योंकि फरीदाबाद शहर हाईवे के दोनों तरफ बसा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शहर को आफत देगा छह लेन हाईवे प्रोजेक्ट