DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान में ओसामा

पाकिस्तान की शर्मिंदगी के लिए मानो यही काफी नहीं था कि ओसामा बिन लादेन अबोटाबाद में पाया गया, अब मुल्क को शर्मसार करने वाले ऐसे कई खुलासे हो रहे हैं, जो दहशतगर्दी के खिलाफ इसकी जंग के तमाम रिकॉर्डों पर सवालिया निशान लगाते हैं। दुनिया भर में जिस बात की आशंका जताई जा रही थी, उनकी तस्दीक करती खबर है कि पाकिस्तानी जांच टीम के सामने ओसामा की एक बीवी ने यह कुबूल किया है कि वह साल 2002 से ही पाकिस्तान में रह रहा था। साल 2002 में तोरा-बोरा की पहाड़ियों पर अमेरिकी हमले के समय ओसामा बिन लादेन वहां से बचकर यहां भाग आया था और तभी से ही दुनिया का यह सबसे बड़ा दहशतगर्द इस मुल्क में रह रहा था।

हैरत की बात यह है कि उसने किसी एक मकान या एक जगह में खुद को कैद नहीं रखा। पेशावर से स्वात और हरिपुर से अबोटाबाद तक 9/11 की घटना के लिए जिम्मेदार यह शख्स किसी न किसी तरह पनाह पाता रहा। कहीं-कहीं पर तो वह सालों तक रहा, जबकि इधर पाकिस्तान के आला अधिकारी उसकी रिहाइश की जानकारी से लगातार इनकार करते रहे। जनरल परवेज मुशर्रफ ने तो यह तक कहा कि ओसामा या तो मर गया है या फिर अफगानिस्तान या कबाइली इलाके में छिपा हुआ है।

क्या यह मुमकिन है कि पाकिस्तानी फौजी व सिविल खुफिया एजेंसियां उस इंसान की शिनाख्त नहीं कर सकीं, जिसकी शक्ल शायद दुनिया में सबसे अधिक पहचानी जाती है? और वह भी तब, जब वह एक शहर से दूसरी जगह आ-जा रहा था? क्या यह नई जानकारी इस मामले में कुछ अधिक डरावनी सच्चाइयों को बेपरदा करने जा रही है? आखिर ओसामा के यहां-वहां आने-जाने में और अपने लिए रिहाइश तलाशने में किसने मदद की? क्या वे साधारण शहरी थे या फिर कानून लागू करने वाले अफसर या खुफिया अधिकारी थे?

साफ है, इस मामले की तहकीकात कर रहा ज्यूडिशियल कमिशन इन सवालों पर भी गौर करेगा। लेकिन कमिशन को अब नई रोशनी में जांच करने की जरूरत है, क्योंकि उसे अब अपनी तफ्तीश का दायरा साल 2002 तक ले जाना होगा, जब से ओसामा बिन लादेन पाकिस्तान में रह रहा था।
द डॉन, पाकिस्तान

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पाकिस्तान में ओसामा