DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गाड़ी चलाने का नया ईंधन

इंग्लैंड की यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क के बायोटेक्निकल के प्रोफेसर जेम्स क्लार्क ने ऐसा माइक्रोवेव बनाने का दावा किया है, जिसकी सहायता से फलों के छिलकों से ऐसे तेल का निर्माण किया जा सकता है, जिससे कारें, बाइक, स्कूटर आदि चलाए जा सकेंगे। यह तेल डीजल व पेट्रोल के समान कार्य करेगा। क्लार्क के अनुसार यह उच्च स्तर का माइक्रोवेव होगा। इस माइक्रोवेव की सहायता से फलों के छिलकों को छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित किया जा सकेगा। इन सूक्ष्म कणों से गैस का निर्माण होगा। यह तरल रूप में परिणत गैस (एलपीजी) के समान कार आदि वाहनों को चलाने में प्रयुक्त की जाएगी।

फलों में सेब, अखरोट, मौसमी, अनार, ईख आदि के छिलकों का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके लिए डॉ. क्लार्क उच्च स्तर के ओवन के निर्माण में जुटे हैं। भविष्य में यदि यह प्रयोग पूर्ण रूप से सफल रहा तो वाहन आदि चलाने के लिए आने वाली ईंधन की समस्या से निजात पाया जा सकेगा। लेकिन फिलहाल यह ओवन महंगा जरूर है।
डॉ. श्याम मनोहर व्यास

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गाड़ी चलाने का नया ईंधन