DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैमरे की नजर में होंगे परीक्षक व पदाधिकारी

हिन्दुस्तान प्रतिनिधि पटना। पटना विश्वविद्यालय में हाईटेक व्यवस्था की जा रही है। सुरक्षा की दृष्टि से विश्वविद्यालय कैंपस से लेकर सभी पदाधिकारियों के कार्यालय में कैमरे लगाए जाएंगे। कैमरे की नजर में परीक्षक और पदाधिकारी दोनों होंगे। विश्वविद्यालय के सभी पदाधिकारियों के चेंबर में आईपी सर्विलांस सिस्टम का कैमरे लगाये जाएंगे।

इस कैमरे की नजर हर विभाग पर होगी। विश्वविद्यालय मुख्यालय के कैंपस में कौन-कौन प्रवेश कर रहा है इसकी तस्वीर कैमरे में कैद होगी। कंट्रोल रूम प्रॉक्टर ऑफिस में होगा। कॉपियों के मूल्यांकन के दौरान कैमरे की नजर शिक्षकों पर होगी। इसमें कोई उलटफेर करने पर पता चल जाएगा।

व्हीलर सीनेट हॉल में भी कैमरा लगाया जाएगा। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से ग्यारहवें प्लान में पटना विश्वविद्यालय को एडॉन ग्रांट के रूप में 90 लाख रुपये मिले हैं। इसी राशि से विश्वविद्यालय प्रशासन ने कई महत्वपूर्ण कार्य करने का फैसला किया है।

विश्वविद्यालय के क्रय-विक्रय समिति की बैठक में कैमरा लगाने सहित कई कार्य करने का अनुमोदन मिल गया है। समिति के सदस्य कंप्यूटर विभाग के पदाधिकारी डा. केपी सिंह ने बताया कि पांच पीजी विभागों में स्मार्ट बोर्ड लगाये जाएंगे। इसकी शुरुआत पहले पयलट प्रोजेक्ट के तहत होगी। स्मार्ट बोर्ड पहले विज्ञान संकाय के स्नातकोत्तर विभाग में लगाया जाएगा।

इसके अलावा भूगोल विभाग में भी स्मार्ट बोर्ड लगाए जाने की बात है। उन्होंने बताया कि सभी संकायों के डीन को लैपटॉप दिया जाना है। इसके अलावा विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों को भी लैपटॉप दिया जाएगा। सभी पदाधिकारियों को कंप्यूटर सेवी बनाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

सभी पदाधिकारियों को ऑनलाइन सूचनाएं भेजी जाएगी। इसका भी प्रपोजल तैयार कर लिया गया है। इसी तरह से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से छात्रों को पढ़ाने की व्यवस्था की जा रही है। इसके लिए भी राशि अवांटित कर दी गयी है। यह प्रक्रिया जल्द ही शुरू हो जाएगी।

इसके अलावा शिक्षा विभाग, बिहार सरकार की राशि से विश्वविद्यालय में एनएमई-आईसीटी के तहत नेशनल नॉलेज नेटवर्क स्थापित करने के लिए सामान को खरीदने पर भी मुहर लगा दी गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैमरे की नजर में होंगे परीक्षक व पदाधिकारी