DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानिये कौन हैं मुकुल रॉय

ममता बनर्जी के विश्वसनीय सहयोगी मुकुल रॉय तृणमूल कांग्रेस की स्थापना के समय से पार्टी के साथ हैं। उन्होंने सिंगूर तथा नंदीग्राम में जमीन अधिग्रहण के खिलाफ आंदोलन के समय से पार्टी का पूरा साथ दिया। बहरहाल, ममता के करीबी होने के बावजूद वह सादा जीवन व्यतीय करने में विश्वास रखते हैं।
 
57 वर्षीय रॉय शुरू से राजनीति में नहीं थे। वह 2002 से 2005 के बीच यूनाइटेड बैंक आफ इंडिया में गैर-कार्यकारी निदेशक थे। वह अप्रैल 2006 में पश्चिम बंगाल से राज्यसभा सदस्य बने। उसी साल अगस्त में वह शहरी विकास मामलों पर समिति के सदस्य के साथ गृह मंत्रालय में सलाहकार समिति के सदस्य नियुक्त हुए। 
 
रॉय अप्रैल 2008 में पार्टी के अखिल भारतीय महासचिव बने। मई 2009 में वह जहाजरानी राज्यमंत्री बने। ममता बनर्जी के रेल मंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद रॉय को रेल मंत्रालय का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा गया था।
 
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 11 जुलाई 2011 को जब रॉय को असम में गुवाहटी-पुरी एक्सप्रेस के पटरी से उतरने की घटना का वहां जाकर जायजा लेने को कहा, उन्होंने उनके आदेश का उल्लंघन किया। उसी वर्ष 12 जुलाई को मंत्रिमंडल में फेरबदल के दौरान उन्हें रेल विभाग से मुक्त कर दिया गया।
   
रॉय का जन्म 17 अप्रैल 1954 में 24 परगना जिले के कंचरापाड़ा में हुआ था। उनके पिता का नाम जुगल नाथ राय तथा मां का नाम रेखा राय है। उन्होंने स्कूली शिक्षा हरनीत उच्च विद्यालय से की। उन्होंने कलकत्ता विश्वविद्यालय से बीएससी (पार्ट 1) की डिग्री हासिल की।
   
उनका विवाह कृष्णा रॉय से 14 अगस्त 1980 को हुआ। उनका एक बेटा है। वह क्रिकेट और फुटबाल मैच के दिवाने हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जानिये कौन हैं मुकुल रॉय