DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आध्यात्मिक गुरुओं से मुलायम की नजदीकी पर कांग्रेस असहज

केंद्र सरकार में समाजवादी पार्टी (सपा) के शामिल होने की अटकलों के बीच पार्टी प्रमुख मुलायम सिंह के योगगुरु बाबा रामदेव और श्री श्री रविशंकर जैसे कांग्रेस विरोधी आध्यात्मिक गुरुओं से प्रेम और नजदीकी को देखकर कांग्रेसी खेमा असहज महसूस कर रहा है।

कांग्रेस पार्टी के खिलाफ अपनी मुखालफत के लिए चर्चित बाबा रामदेव ने गत शनिवार को सपा मुखिया मुलायम सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके आवास पर जाकर मुलाकात की थी।

इस दौरान बाबा रामदेव ने मुलायम और अखिलेश को आशीर्वाद देते हुए कहा था कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि सपा के शासनकाल में उत्तर प्रदेश विकास की नई ऊंचाइयों को छुएगा।

इसी तरह कांग्रेस पार्टी के खिलाफ भ्रष्टाचार व अन्य मुद्दों पर समय-समय पर अपने विचार सार्वजनिक करने वाले अध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर ने सोमवार को मुलायम सिंह और अखिलेश यादव से उनके आवास पर जाकर मुलाकात की। श्री श्री ने भी दोनों नेताओं को आशीर्वाद देते हुए सपा सरकार में उत्तर प्रदेश की तरक्की और उन्नति की कामना की।

कम से कम पिछले तीन-चार दिनों से कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बयानबाजी से साफ लग रहा है कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी की घुड़कियों से त्रस्त कांग्रेस पार्टी केंद्र में उनसे छुटकारा पाने के लिए लगातार मुलायम सिंह यादव पर सरकार में शामिल होने के लिए डोरे डाल रही है।

ऐसे में मुलायम सिंह यादव द्वारा कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले संतों से नजदीकियां बढ़ाना कांग्रेस को बेचैन कर रहा है। कांग्रेस के नेता हालांकि इस पर खुलकर कुछ बोलने से बच रहे हैं।

इस बारे में पूछे जाने पर प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुबोध श्रीवास्तव ने कहा, ''देखिए, सपा एक अलग पार्टी है। वह सामाजिक और राजनीतिक संबंधों के लिए स्वतंत्र है, लेकिन मुझे ऐसा नहीं लगता कि इन आध्यात्मिक गुरुओं से मुलायम की नजदीकी और प्रेम का असर उनके कांग्रेस के साथ रिश्तों पर पड़ेगा।''

सूत्रों के मुताबिक दोनों आध्यात्मिक गुरुओं ने संकेतों में मुलायम को घोटालों का कलंक ढो रही कांग्रेस पार्टी से 'उचित दूरी' बनाए रखने की सलाह दी है।

कांग्रेस से दूरी बनाकर उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अप्रत्याशित जीत दर्ज करने वाले मुलायम सिंह फिलहाल अपने पत्ते नहीं खोल रहे हैं। कहा जा रहा है कि सपा नेतृत्व भी इस बात पर मंथन कर रहा है कि कहीं केंद्र में शामिल होने पर लोकसभा चुनाव में उसे घोटालों को लेकर कांग्रेस से लोगों की नाराजगी का खामियाजा न भुगतना पड़ जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आध्यात्मिक गुरुओं से मुलायम की नजदीकी पर कांग्रेस असहज