DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाठीचार्ज मामले में एसपी की हुई विदाई

विधानसभा चुनाव की मतगणना के बाद शहर में प्रत्याशी की हार से बौखलाए सपाइयों द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया था। एसपी द्वारा सपाइयों पर लाठीचार्ज कराए जाने और आंसू गैस के गोले चलवाने के मामले को लेकर लगातार चर्चाओं का दौर चल रहा था कि सपा सरकार बनते ही उनका स्थानांतरण तय है। और ऐसा ही हुआ, एसपी को लखनऊ में डीजीपी कार्यालय से संवद्ध कर दिया गया है, वहीं 15 पीएसी बटालियन आगरा की एन पद्मजा को जिले की कमान सौंपी है। 

छह मार्च को विधानसभा चुनाव की मतगणना के बाद सपा प्रत्याशी अजीम की हार के बाद बौखलाए समर्थकों ने नगला बरी चौराहे पर जाम लगाकर प्रदर्शन किया था। आरोप था कि प्रशासन ने मिलीभगत करके भाजपा प्रत्याशी को जिताया है। इसी दौरान सपा प्रत्याशी भी आ गए तो उन्हें भी समर्थकों ने चौराहे पर बिठाकर हंगामा शुरू कर दिया था।

मामला इतना बढ़ गया कि समर्थकों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी थी। हाईवे पर जाम लगाते सपाइयों को हटाने के दौरान एसपी मंजिल सैनी का रुख बदल गया और उन्होंने पुलिसकर्मियों को लाठीचार्ज कर खदेड़ने के निर्देश दे दिए थे। आक्रोशित सपाइयों ने विरोध में पथराव किया तो एसपी ने आंसू गैस के गोले दागने के निर्देश भी दे दिए थे।

इस मामले में घायल हुए शानू और सुबहान ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया था। वहीं एसपी ने सपा प्रत्याशी अजीम को गिरफ्तार किया था। पूरे घटनाक्रम से सपाई अंदर ही अंदर एसपी से खफा चल रहे थे। साफ तौर पर कहा जा रहा था कि सरकार बनते ही एसपी की विदाई तय है। पार्टी हाईकमान को भी जिलास्तर से मामले के रुख से अवगत करा दिया गया था और ऐसा ही हुआ। रविवार को ही एसपी मंजिल सैनी को इस संदर्भ में जानकारी हो गई थी। सोमवार को आदेश भी हो गए जिसमें एसपी सैनी को डीजीपी कार्यालय लखनऊ से अटैच कर दिया गया है।

एन पद्मजा बनीं नई एसपी
फिरोजाबाद। जिले की कमान नई एसपी के रूप में एन पद्मजा को सौंपी गई है। एन पद्मजा वर्तमान में आगरा की 15पीएसी बटालियन से आ रही हैं। एन पद्मजा इससे पूर्व कमांडेंट सैकेंड बटालियन पीएसी सीतापुर में तैनात रह चुकी हैं। यहां से 13 अगस्त को उनका स्थानांतरण 23 पीएसी बटालियन में किया गया था। वहीं लखीमपुर खीरी में एसपी के रूप में भी तैनात रह चुकी हैं।

जिले को दूसरी महिला एसपी मिली
फिरोजाबाद। सुहागनगरी को महिला के रूप में एन पद्मजा को दूसरी एसपी के रूप में तैनाती मिली है। इससे पूर्व एसपी मंजिल सैनी एसपी के रूप में यहां आई थीं। जब मंजिल सैनी की नियुक्ति हुई थी, तब लोग चौंक गए थे कि एक महिला इस जिले को कैसे संभालेगी लेकिन उनके कार्यकाल में महिलाओं ने खुद को सुरक्षित महसूस किया। इतना ही नहीं अपराधों का ग्राफ भी कम रहा।  

सत्ताधारी नेता याद रखेंगे एसपी को
फिरोजाबाद। मई में कांग्रेसियों द्वारा हाईवे पर प्रदर्शन के दौरान आगजनी और तोड़फोड़ की कोशिश की गई थी, जिसे लेकर एसपी ने खुद लाठियां चलाकर कांग्रेसियों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा था। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिनव चतुर्वेदी मामले को मानवाधिकार आयोग में ले गए थे। पूर्व में ही सत्ताधारी विधायक नसीरुद्दीन सिद्दीकी के पुत्र द्वारा टीएसआई के साथ मारपीट के मामले में विधायक पुत्र के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी थी। वहीं छह मार्च को सपाइयों द्वारा हाईवे पर जाम लगाने को लेकर एसपी ने पूर्व विधायक अजीम समेत कई सपाइयों पर लाठीचार्ज कराया था।    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लाठीचार्ज मामले में एसपी की हुई विदाई