DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा की अविरलता के लिए रखा उपवास

बलिया निज संवाददाता

वक्त है गंगा के लिए स्वप्रेरित समर्पण करने का। प्रकृति को चोट पहुंचा कर कोई भी सत्ता सुरक्षित व संरक्षित नहीं रह सकती। राष्ट्र की धड़कन तभी नियमित रहेगी, जब गंगा बेरोक-टोक गोमुख से गंगा सागर तक पहुंचे। उक्त उद्गार गंगा मुक्ति एवं प्रदूषण विरोधी अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी रमाशंकर तिवारी ने रविवार को कदम चौराहा स्थित अमर शहीद मंगल पाण्डेय की प्रतिमा के समक्ष गंगा भक्ति के लिए एक दिवसीय उपवास के दौरान पत्रकारों से कही। उन्होंने कहा कि प्रो. जीडी अग्रवाल के आग्रह को अनसुना कर सरकार ने गंगा की गरिमा पर चोट किया है। कहा कि यदि समय रहते गंगा पर बने बांधों से पतित पावनी को मुक्त नहीं किया गया तो बागी धरती से निकली क्रांति की ज्वाला प्रदेश में फैलेगी। इस अवसर पर ओमप्रकाश पांडेय, राजेश सिंह, मनोज पांडेय, राजकुमार सिंह, लल्लन सिंह, अवधेश वर्मा, संतोष दूबे, रजनीश पाण्डेय, आदर्श कुमार, दयानन्द उपाध्याय, राम बाबू यादव, नागेन्द्र पाण्डेय, अमरजीत वर्मा, प्रह्लाद चौबे, ददन यादव आदि ने गंगा मुक्ति का संकल्प किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गंगा की अविरलता के लिए रखा उपवास