DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एफआईआर नहीं तो एनएच किया जाम

दादरी/हमारे संवाददाता

मारपीट के मामले में गाजियाबाद पुलिस ने शुक्रवार को एफआईआर दर्ज नहीं की, इस बात से नाराज ग्रामीणों ने शनिवार को नेशनल हाईवे रोक दिया। जाम का खामियाजा हजारों लोगों को भुगतना पड़ा। घटना लाल कुंआ की है। पीडिम्त युवक बादलपुर कोतवाली क्षेत्र के अच्छेजा गांव का रहने वाला है। ग्रामीण करीब एक घंटे तक रोड जाम करके बैठे रहे। बाद में दादरी एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर लोगों को आश्वासन दिया और जाम खुलवाया।

बाद में यह मामला दादरी कोतवाली में दर्ज करवाया गया है।अच्छेजा गांव का रहने वाला सुनील परिचालक की नौकरी करता है। शुक्रवार की दोपहर लाल कुंआ पर कुछ लोगों ने उसकी बस में ही उसके साथ जमकर मारपीट की थी। मारपीट के दौरान युवक को गंभीर चोट आई हैं। उसे गाजियाबाद के एक प्राईवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि इस घटना की शिकायत कवि नगर थाने में की गई। लेकिन, पुलिस ने मामला दर्ज करने से इंकार कर दिया। पुलिस के इस रवैये से परेशान होकर ग्रामीणों ने शनिवार को दुजाना गांव के सामने जीटी रोड जाम कर दिया। ग्रामीण आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने और गिरफतारी की मांग कर रहे थे। यह इलाका गौतबुद्ध नगर में है। सूचना पाकर दादरी के एसडीएम ज्ञानेंद्र सिंह मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को आश्वासन देकर जाम खुलवाया। उसके बाद अधिकारियों ने बातचीत करके यह मामला दादरी कोतवाली में दर्ज करवाया है। एनएच जाम करने वालों में रामकुमार, अनिल, उमेद, रणदीप, महेंद्र, सुरेंद्र मौजूद थे।

‘इस मामले के बारे में पता लगाया जा रहा है। गाजियाबाद पुलिस के अधिकारियों से बात करके एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। लोगों को चाहिए कि धर्य से काम लें। हाईवे नहीं रोकना चाहिए। इससे आम आदमी को परेशानी होती है। ग्रामीणों को गाजियाबाद के एसपी, एसएसपी या हमसे बात करनी चाहिए थी।श्रीपर्णा गांगुली, एसपी देहात

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एफआईआर नहीं तो एनएच किया जाम