DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मदद के नाम पर लोगों को ठग रहीं कश्मीरी युवतियां

सर! हम कश्मीर के दौडा के रहने वाली हैं। वहां पर आतंकियों के हमले के चलते कई परिवार उजड़ चुके हैं। जबकि वहां पर अभी भी अशांति फैली हुई है। जिसके चलते 1100 परिवार पलायन कर दिल्ली में सड़कों पर रह रहे हैं। उनके आवासों के निर्माण के लिए प्लीज हमारी मदद करो।

उक्त बातें अपने को कश्मीर का बताने वाली युवतियां जिले के लोगों से मदद के नाम पर रुपये लेने के लिए कह रही हैं। एएसपी ने इस मामले की जांच कराने की बात कही है। इन दिनों जिले में तीन युवतियां घूम रही हैं। जो लोगों के पास जाती हैं तथा कश्मीर में आतंकियों द्वारा हमले की बात कहते हुए कई परिवारों के उजड़ने की बात कहती हैं। परिवारों के पालन-पोषण के लिए मदद की मांग करती हैं। हैरत की बात है कि कुछ लोग तो युवतियों के झांसे में आकर उन्हें रुपये दे देते हैं जबकि कई युवतियों को टरका देते हैं। युवतियों के बहकावे में आने का एक प्रमुख कारण यह भी है कि तीनों सुंदर हैं। जिनके बहकावे में अधिकतर युवा वर्ग आता है। रुपये लेने के बाद युवतियां गायब हो जाती हैं।

नगर निवासी विनोद कुमार भारद्वाज, राजेश, सोनू आदि ने बताया कि पहले तो वह भी युवतियों के बकहावे में आ गए थे। मगर एक बार आने के बाद दूसरे माह फिर से वे उनके पास मदद के लिए आई। दिल्ली के रेलवे स्टेशन पर कश्मीरी लोगों के रुकने की बात कही। उन्होंने रेलवे स्टेशन पर जाकर पूछताछ की तो कश्मीर के कोई भी लोग उन्हें नहीं मिले। जिस पर उन्होंने युवती को भगा दिया। लोगों का कहना है कि प्रत्येक माह के पश्चात उक्त युवती चंदा मांगने के लिए आती हैं। रुपये लेने के बाद यहां से चली जाती है। तीनों युवतियों से जब इस संवाददाता ने बात की तो उन्होंने अपना नाम सोनम, जिला कॉल व पिंकी कॉल बताया। बताया कि तीन साल से कश्मीर में आतंकी कहर बरपा रहे हैं। जिसके चलते कश्मीर के परिवारों ने दिल्ली में शरण ली है। उनके भोजन व मकानों आदि की व्यवस्था के लिए चंदा एकत्रित कर रही हैं। पूछने पर कि वह और क्या करती हैं। युवतियों ने बताया कि वह कक्षा 11 व 12 की छात्रएं हैं। मगर अब पढ़ाई छोड़ चुकी हैं।
 
मामले की कराई जायेगी जांच
इस बारे में एएसपी डा. धर्मवीर सिंह का कहना है कि यदि जिले में कोई ऐसी युवतियां घूमकर मदद के नाम पर रुपये मांग रही हैं तो मामले की जांच कराई जायेगी पता लगाया जायेगा कि आखिर उक्त युवतियां हैं कौन।

आखिर कौन हैं यह युवतियां?
जिले में घूम कर मदद के नाम पर रुपया मांगने वाली हसीन युवतियां कौन है, क्या यह वाकई में कश्मीर की है। यदि कश्मीर की है तो पुलिस की अभी तक इन पर नजर क्यों नहीं पड़ी है। युवतियों का यहां पर आने का मकसद रुपया कमाना है या फिर ये वाकई में अपने यहां के लोगों की मदद कर रही है। यह सवाल जिले के लोगों के दिगाम में घूम रहा है।खैर युवतियां जो भी पुलिस के सक्रिय होने के बाद ही इनका सही पता लग पायेगा।

खुफिया विभाग को भी नही है जानकारी
इस बारे में जब जिले के खुफिया विभाग के अधिकारियों से बात की गई तो उनका कहना था कि कश्मीरी युवतियों के जिले में होने की जानकारी उन्हें नहीं है। यदि ऐसा है तो मामले की जांच कराई जायेगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मदद के नाम पर लोगों को ठग रहीं कश्मीरी युवतियां