DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंशा अल्लाह, कहानी के लिए ऑस्कर मिल जाए

विद्या बालन फिल्म कहानी से अलग कहानी कह रही हैं। इंडस्ट्री वाले मानने लगे हैं कि यह कलाकार अपने कंधे पर फिल्म उठा सकती है। कहानी अच्छी हो, तो उसे किसी हीरो की मदद की जरूरत नहीं है। विद्या ने पहले द डर्टी पिक्चर  से यह अहसास कराया और नेशनल अवॉर्ड के लिए चुनी गईं। अब कहानी की सफलता उनके अभिनय के जादू को दर्शाती है। इस फिल्म में न तो ग्लैमर है और न ही कोई आइटम नंबर। सिनेमा और अभिनय के प्रति अलग ख्याल रखने वाली विद्या बालन से मुंबई में बातचीत की हमारे विशेष संवाददाता नवीन कुमार ने। पेश हैं बातचीत के अंश :

कहानी खूब पसंद की जा रही है?
आलोचकों ने फिल्म की तारीफ की है और दर्शक फिल्म देख रहे हैं। अच्छा लग रहा है। हमारी मेहनत सफल हुई है।

क्या ऐसी सफलता की उम्मीद थी आपको?
इस फिल्म से बड़ी उम्मीद थी। वैसे तो मुझे अपनी हर फिल्म से उम्मीद रहती है, पर हमने कहानी की कहानी ईमानदारी और सच्चाई से कहने की कोशिश की है, जिसे लोग सराह रहे हैं।

आपकी बहन ने इसमें आपकी भूमिका की बहुत तारीफ की है?
मेरी बहन ने बेस्ट कंप्लीमेंट दिया है। उन्होंने कहा है कि सबरीना, सिल्क स्मिता और विद्या बागची में कोई तालमेल नहीं है।

महिला कलाकार के नाते इस सफलता को आप किस नजरिये से देखती हैं?
एक महिला कलाकार को हमेशा ही अपनी सफलता का औचित्य साबित करना होता है, जो पुरुष अदाकार के लिए जरूरी नहीं होता है। इस नजरिये में बदलाव आना चाहिए।

आपको इन दिनों लेडी आमिर खान कहा जाने लगा है?
सब भगवान की कृपा है। असलियत यह है कि मैं अपनी तरफ से पूरी मेहनत करती हूं। उसे मैं कहानी में दिखा रही हूं। यह सिर्फ कहानी तक सीमित नहीं है। मैं अपनी हर फिल्म में कहानी का हिस्सा रही हूं।

कहा जा रहा है कि इस फिल्म का हीरो विद्या बालन और इसकी पटकथा है?
जी हां, फिल्म की पटकथा वाकई असली हीरो है, ऐसा मैं भी मानती हूं।

विद्या बागची का किरदार कितना चैलेंजिंग था?
काफी। खासतौर से गर्भवती दिखने के लिए प्रोस्थेटिक स्टमक पहनना था, जिससे पीठ पर वजन पड़ता था। इसके बावजूद कोलकाता की गलियों और सड़कों पर सीन को शूट करना जितना चुनौतीपूर्ण था, उतना ही मजेदार भी था। कोलकाता के लोग काफी अच्छे हैं, जिन्होंने शूटिंग के दौरान बहुत सहयोग किया।

आपने कहा था सफलता का फॉर्मूला है- एंटरटेनमेंट, एंटरटेनमेंट, एंटरटेनमेंट। अब क्या कहेंगी?
मेरे ख्याल से आज किसी फिल्म को सुपरहिट कराने का कोई सीक्रेट फॉर्मूला नहीं है। कहानी ऐसी फिल्म नहीं है, जिसके बारे में कहा जाए कि यह सुपरहिट होगी। किसी भी फिल्म की कहानी अच्छी होनी चाहिए। फिल्म दिलचस्प होनी चाहिए और ऐसी ही फिल्म चलती है। कहानी की सफलता में उसकी पटकथा का योगदान है। मैं इस तरह की फिल्में करके खुश हूं।

आपने कहानी का प्रोमोशन अनोखे अंदाज में क्यों किया?
यह सच है कि गर्भवती लुक में ही फिल्म को प्रोमोट करने का मेरा विचार था। मैं खुशनसीब हूं कि फिल्म के निर्माता और निर्देशक ने इस आइडिया को स्वीकार किया। मेरा मानना है कि अगर फिल्म में मुख्य किरदार का लुक अलग है, तो उसी लुक में फिल्म का प्रोमोशन करना चाहिए। ऐसा करने से दर्शक फिल्म के मुख्य किरदार के कैरेक्टर से जुड़ते हैं।

सुजॉय घोष के साथ आप फिल्म करना नहीं चाहती थीं। फिर कैसे तैयार हुईं?
कहानी से पहले भी सुजॉय मेरे पास आए थे, पर मुझे उनकी किसी फिल्म की स्क्रिप्ट पसंद नहीं आई थी। मैंने कह दिया कि कोई अच्छी पटकथा लेकर आएं, तभी उनकी फिल्म में काम करूंगी। सुजॉय भी कम जिद्दी नहीं थे। उन्होंने ठान लिया था कि वह मेरे साथ फिल्म करेंगे। उन्होंने कहानी फिल्म की कहानी सुनाई, तो यह मेरे दिल को छू गई और मैं उनकी फिल्म में काम करने के लिए तैयार हो गई।

एक गर्भवती महिला का रोल करने के लिए आप आसानी से तैयार हो गईं?
मुझे जब विद्या बागची का कैरेक्टर सुनाया गया, तो मैंने सोचा कि कोई आदमी लापता हो जाता होगा, तो उसके परिवार पर क्या बीतती होगी? मैं उस व्यक्ति की पत्नी का रोल करने के लिए तैयार हो गई। कॉलेज के दिनों में मैं चेंबूर से वीटी लोकल ट्रेन से जाती थी। उस समय मैं महिला डिब्बे में गर्भवती महिलाओं को करीब से देखती थी। इसलिए विद्या बागची बनने में मुझे परेशानी नहीं हुई।

कहानी आर्थिक तंगी में थी। फाइनेंसर नहीं मिल रहे थे..?
महिला प्रधान फिल्म के लिए फाइनेंसर नहीं मिलते। फिल्म को ग्लैमराइज करने के लिए इसमें किसी सुपरस्टार को शामिल करने की सलाह दी जा रही थी। लेकिन सुजॉय ने समझौता नहीं किया। वह अपने घर को गिरवी रखकर फिल्म बनाने को तैयार थे। आखिर में वायकॉम18 ने सहयोग दिया और आज एक अच्छी फिल्म दर्शक देख रहे हैं।

द डर्टी पिक्चर से नेशनल अवॉर्ड के लिए चुनी गई हैं और अब कहानी से ऑस्कर मिलने की उम्मीद है?
ऑस्कर, ईंशा अल्लाह, कहानी के लिए मिल जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंशा अल्लाह, कहानी के लिए ऑस्कर मिल जाए