DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नये एम्स में छात्रों को बढ़ी फीस पर प्रवेश दिया जाएगा

एम्स की तर्ज पर बनने वाले छह नये एम्स में छात्रों को बढ़ी फीस पर प्रवेश दिया जाएगा। प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत बनने वाले नये संस्थानों की फीस का ढांचा भी तैयार कर लिया गया है। जिसकी जानकारी छात्रों को प्रवेश फार्म के साथ दिए जाने वाले प्रॉस्पेक्टस में भी दी गई है। हालांकि फीस का यह ढांचा दिल्ली एम्स से अधिक रखा गया है। पंजीकरण और कॉशन मनी को छोड़कर अन्य सभी मदों में बढ़ोत्तरी की गई है।


भोपाल, भूवनेश्वर, जोधपुर, पटना, रायपुर और ऋषिकेश में खुलने वाले एम्स के एमबीबीएस के पहले वर्ष के छात्रों के प्रवेश संबंधी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। दो अप्रैल तक प्रवेश फार्म दिए जाएगें। जबकि प्रवेश परीक्षा देश भर के 17 विभिन्न केन्द्रों पर दो जून को आयोजित की जाएगी। अगस्त 2012 से शुरू होने वाले संस्थानों के शैक्षणिक सत्र के लिए छात्रों को दिल्ली एम्स की अपेक्षा विभिन्न मदों पर अधिक शुल्क देना होगा। छात्रों के लिए तैयार किए गए शुल्क के ढांचे में बिजली बिल, हॉस्टल, मेस सिक्योरिटी, जिमखाना क्लब, पॉट फंड, स्टूडेंट यूनियन और लैबोरेटरी फीस को बढ़ाया गया है। हालांकि पंजीकरण शुल्क, टय़ूशन फीस और कॉशन मनी में परिवर्तन नहीं किया गया है। दिल्ली एम्स में छात्रों का वार्षिक शुल्क जहां 970 रुपए है, वहीं अन्य संस्थानों में छात्रों को वार्षिक पाठय़क्रम के लिए 4,228 रुपए देने होंगे।

किसमें कितना परिवर्तन
मद  वार्षिक            पहले              अब 
रजिस्ट्रेशन फीस         25 रु                25
टय़ूशन फीस             150             1350
हॉस्टल फीस             180              990
जिम खाना क्लब         40               220
लैबोरेटरी फीस           20               90
कॉशन मनी              100             100
पॉट फंड                 60              1320
बिजली का बिल         36             198
मेस सिक्योरिटी         500              500
छात्र संघ फीस         14                63
नोट- इनमें कई मदों पर अर्ध वार्षिक शुल्क का भी विकल्प है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नये एम्स में छात्रों को बढ़ी फीस पर प्रवेश मिलेगा