DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली में बदमाशों के हौसले हैं बुलंद

साउथ ईस्ट दिल्ली की पुलिस के सुस्त रैवये को बयान करती यह इस साल की दूसरी  वारदात है। इलाके में बदमाशों के हौसले कितने बुलंद हैं वह इस बात से पता चल जाता है कि उन्होंन पुरी घटना को थाने के पास अंजाम दिया।

घटना के दौरान किसी भी पुलिसकर्मी, पीसीआर ने इन गाड़ियों पर गौर नहीं किया। पुलिस को भी यह अदंजा नहीं है कि यह रेस की वजह से हुआ कि आपसी रंजीश की वजह से। पुलिस के अनुसार घटना ओवर टेक के दौरान हुआ। दरअसल जामिया नगर के ओखला बैराज के पास तेज रफ्तार सफारी गाड़ी को स्कार्पियो गाड़ी ने ओवरटेक कर रोक दिया। पुलिस के अनुसार दोनों गाड़ियों में दो-दो युवक बैठे थे। लेकिन देखते ही स्कॉर्पियो गाड़ी में बैठे युवकों के और दोस्त जुटने लगे। सफारी गाड़ी में बैठे फिरोज और सोनू को स्कॉर्पियो में बैठै युवकों और उनके दोस्त गाड़ी से बाहर निकालकर मारने लगे। हाथापाई के दौरान सोनू और फिरोज अपनी सफारी गाड़ी छोड़ थाने की तरफ भागे।

लेकिन स्कॉर्पियो में बैठे बदमाशों ने सफारी गाड़ी में आग लगा दी। फिरोज के अनुसार स्कॉर्पियो गाड़ी में बैठे लड़कों ने पास खड़े एमसीडी की जेसीबी मशीन में भी आग लगा दी। फिरोज के अनुसार थाने से मात्र 20 मीटर दूर हुए हादसे में पुलिस काफी देर से पहुंची और वहां पहुंचकर तमाशबीन बन गई।

45 मिनट तक पुलिस से गुहार लगाता रहा फिरोज
फिरोज ने पुलिस पर आरोप लगाया है पुलिस के सुस्त रैवये की वजह से यह हादसा इतना बड़ा हो गया। वह थाने के बाहर करीब 45 मिनट तक खड़ा रहा लेकिन पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया। वहीं साउथ ईस्ट के एडिशनल सीपी अजय चौधरी ने बताया सूचना मिलते ही एसीपी, एसएचओ मौके पर थे।

पहले भी दिख चुका है सुस्त पुलिस का चेहरा
इससे पहले 12 फरवरी को कुछ बदमाशों ने एक सुरक्षा अधिकारी को जमकर पीटा था। सीसीटीवी में रोंगटे खड़े कर देने वाली यह घटना रिकार्ड हुई थी लेकिन पुलिस ने दस दिन बाद बदमाशों को पकड़ा था। इस मामले में पुलिस ने एसएचओ को भी लाइन हाजिर कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली में बदमाशों के हौसले हैं बुलंद