DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘मैं पाकिस्तानी प्रतिभा को पेश करना चाहता हूं’: आतिफ

पाक फिल्म ‘बोल’ में एक संगीतकार के किरदार में दिखे पाक गायक आतिफ असलम बहुत जल्द ‘सहारा वन’ पर आने वाले रियलिटी शो ‘सुरक्षेत्र’ में पाक प्रतियोगियों के मेंटर व जज की भूमिका में नजर आने वाले हैं। आतिफ असलम का दावा है कि उनके देश के हालात खराब नहीं हैं।

आप इस शो के साथ क्यों जुड़े?
मेरे प्रशंसक चाहते थे कि मैं टीवी पर नजर आऊं। मेरे पास कई रियलिटी शो के ऑफर आ रहे थे, पर मैं स्क्रिप्टेड शो नहीं करना चाहता था। ‘सुरक्षेत्र’ के निर्माता-निर्देशक गजेंद्र सिंह ने मुझे भरोसा दिलाया कि यह स्क्रिप्टेड नहीं होगा। पंद्रह से बीस प्रतिशत स्क्रिप्टेड होगा, तो चल जाएगा। मैं इस शो के माध्यम से पाक कल्चर और वहां की युवा प्रतिभा को पेश करना चाहता हूं।

चर्चा है कि भारत में आपके अभिनय से सजी फिल्म ‘बोल’ के प्रदर्शन के बाद ही आपको इसका ऑफर मिला?
ऐसा नहीं है। मैंने पहले ही कहा कि मेरे पास इससे पहले भी पांच-छह म्यूजिकल रियलिटी शो के ऑफर आ चुके थे, पर वह मुझे जंचे नहीं। मेरा मानना है कि यदि मैं किसी कार्यक्रम का क्रिएटिव हिस्सा हूं, तो उसमें मैं कंटेंपरेरी म्यूजिक को महत्व दूं। हर कलाकार या गायक हमेशा एक सफलतम चैनल के साथ जुड़ना चाहता है।

किंतु ‘सहारा वन’ की टीआरपी तो बहुत कम है?
माना कि आज की तारीख में सहारा वन अच्छा नहीं कर रहा हैं, पर ‘सुरक्षेत्र’ के प्रसारण के साथ ही इसके दर्शक, इसकी टीआरपी बढ़ जाएगी। कार्यक्रम अच्छा हो तो वह किसी भी चैनल पर हिट हो सकता है। चैनल छोटा या बड़ा नहीं होता।

‘सुरक्षेत्र’ का कॉन्सेप्ट क्या है?
हर प्रतियोगी एक दूसरे से प्रतिस्पर्धा करते नजर आएंगे। मैं ऑडिशन के माध्यम से पाकिस्तान के कुछ प्रतियोगी चुनूंगा और हिमेश रेशमिया भारत से चुनेंगे। हम दोनों अपने-अपने देश के प्रतियोगियों को ट्रेनिंग देंगे। फिर प्रतियोगिता शुरू होगी। शूटिंग दुबई में होगी। वैसे यह शो काफी अलग होगा। इस शो में पाकिस्तानी कल्चर के बारे में भारत के अलावा दूसरे देशों को भी जानने का मौका मिलेगा। इसके अलावा, शो में गीतों को बहुत ही अलग अंदाज में पेश किया जाएगा। मैं समसामयिक संगीत को ही इस शो में प्रमुखता दूंगा। इससे पहले भी तमाम पाकिस्तानी गायक भारत के कई रियलिटी शो में हिस्सा ले चुके हैं। कुछ बॉलीवुड में गा चुके हैं। मैं संगीत को उसके सही रूप में, पर अलग अदांज में पेश करने वाला हूं।

यदि दो देशों के बीच प्रतियोगिता है, तो ये दो देश भारत और पाकिस्तान ही क्यों?
इस संबंध में मैं कुछ नहीं कह सकता। इसकी जानकारी चैनल व निर्माता दे सकते हैं, पर मुझे लगता हैं कि यह सिर्फ शो का कॉन्सेप्ट है।

आपको नहीं लगता कि इस तरह के शो से दोनों देशों के बीच दूरियां बढ़ेंगी?
जी नहीं! यह शो दोनों देशों की प्रतिभा को सामने ला रहा है। हम सभी का मकसद सांस्कृतिक आदान-प्रदान के साथ अमन-चैन लाना भी है।

भारत-पाक गायकी प्रतियोगिता के बारे में क्या सोचते हैं?
प्रतियोगी मंच पर आकर जो कुछ भी करेंगे, उसके माध्यम से हम शांति का संदेश ही फैलाना चाहेंगे।

क्या आप इस शो में पाकिस्तानी संगीत को भी लाना चाहेंगे?
क्यों नहीं! आखिर पूरे शो का अर्थ भी तो यही हैं। पिछले काफी समय से पाकिस्तानी गायकों को हर जगह लोगों ने पसंद किया है। हम चाहते हैं कि अब पूरा विश्व देखे कि उनमें कितनी प्रतिभा है और वे क्या कर सकते हैं।

आप गायक में क्या तलाशेंगे?
मुझे उनकी परफार्मेस को देखकर जो अहसास होगा, उसे स्पष्ट रूप से कहूंगा। मैं सुर के साथ-साथ उसके एटीट्यूड, उसके मैनरिज्म, परफॉर्मेस, लुक आदि पर गौर करूंगा। मेरा मानना है कि एक अच्छे गायक का सामने बैठे दर्शकों/श्रोताओं के साथ अच्छा इंटरेक्शन होना चाहिए।

रियलिटी शो में प्रतियोगी पुराने या मौजूदा गायकों के गीतों को ही गाता है। आपको नहीं लगता कि उन्हें इस बात की छूट मिलनी चाहिए कि वे कुछ नया करके दिखाएं?
ऐसा ही होना चाहिए, जिससे लोगों की मौलिकता सामने आए, पर यदि कोई गायक किशोर कुमार का गीत गाता है, तो भी गीत को पेश करने का उसका अंदाज अलग हो सकता है। सदियों से प्रेमिकाओं को लेकर गीत लिखे जा रहे हैं, गाने बन रहे हैं, पर अंदाज बदलता रहता है।

इस शो में हिमेश रेशमिया भारतीय टीम के कैप्टन हैं। आप उन्हें किस तरह का प्रतिद्वंद्वी मानते हैं?
हिमेश से मेरी हाल में मुलाकात हुई। मैं उन्हें अपना प्रतिद्वंद्वी नहीं मानता। मैं एक आम इंसान हूं। यह शो दो देशों की दोस्ती को लेकर है। ऐसे में मैं किसी को प्रतिद्वंद्वी कैसे मान सकता हूं।

तमाम पाकिस्तानी गायक बॉलीवुड में आकर फिल्मों में अभिनय भी कर रहे हैं, आपने यह कोशिश क्यों नहीं की?
मेरे पास अभिनय के लिए पांच फिल्मों के ऑफर आए थे, पर मैंने नहीं किया, क्योंकि मुझे उनकी पटकथा पसंद नहीं थी। मैं किसी दौड़ में नहीं हूं। मैं कुछ अलग करना चाहता हूं।
 
क्या आप रियलिटी शो देखते हैं?
मेरे पास समय नहीं है।
 
क्या आप दूसरा रियलिटी शो भी करना चाहेंगे?
फिलहाल कुछ कहना ठीक नहीं होगा, पर मैं किसी दौड़ का हिस्सा नहीं बनना चाहता। जब कोई नया ऑफर आएगा, तो विचार करूंगा, पर मुझे दोहराव पसंद नहीं।

वर्तमान में संगीत की स्थिति पर क्या कहेंगे?
बॉलीवुड की फिल्में बहुत बड़ी बन चुकी हैं। रियलिटी शो भी बॉलीवुड फिल्मों के गीतों के साथ लोकप्रिय हो चुके हैं। रियलिटी शो पहले से स्क्रिप्टेड होने के बावजूद लोग इन्हें देखना पसंद करते हैं। इसी वजह से आर्टिस्ट भी लोकप्रिय हो रहे हैं। फिर ये गायक पूरे विश्व में म्यूजिकल कंसर्ट कर लोकप्रियता और धन दोनों कमाते हैं। माना कि पाकिस्तान में पॉप संगीत काफी लोकप्रिय हो रहा है। फिर भी मेरे संगीत को किसी जोन में बांधना मुश्किल है। मैं गुणवत्ता वाला संगीत परोसने व गुणवत्ता वाला गीत गाने में यकीन करता हूं। मसलन, फिल्म ‘फालतू’ का गीत ‘ले जा तू मुझे..’ तथा फिल्म ‘प्रिंस’ का गीत- ‘तेरे लिए..’

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘मैं पाकिस्तानी प्रतिभा को पेश करना चाहता हूं’: आतिफ