DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैमूर में इंजीनियर समेत 11 पर होगा मुकदमा

भभुआ। एक संवाददाता। कैमूर के एक इंजीनियर, चार पंचायत रोजगार सेवक, तीन तकनीकी पदाधिकारी, एक मुखिया, एक उप मुखिया एक वार्ड सदस्य पर 24 घंटों के अंदर मुकदमा दर्ज करने का निर्देश डीएम असंगबा चुबा आओ ने मनरेगा में दुर्गावती प्रखंड के प्रोग्राम अफसर को दिया है। डीडीसी बृजनंदन प्रसाद ने बताया कि उक्त लोगों पर मनरेगा की राशि का दुरुपयोग करने का आरोप है।

डीएम के निर्देश पर गठित 13 जांच टीमों के अफसरों ने दुर्गावती प्रखंड की विभिन्न पंचायतों में चल रही योजनाओं की स्थलीय जांच की। जिनमें से चार पंचायतों छांव, खड़सरा, खजुरा, कर्णपुरा में भारी गड़बड़ी पायी गयी। डीडीसी ने बताया कि जांच के दौरान यह पाया गया कि योजना में घटिया किस्म के मैटेरियल का उपयोग किया गया है।

जांच टीम ने कम काम कर मापी पुस्तिका में अधिक दर्ज करने, फर्जी मास्टर रोल तैयार करने, मास्टर रोल पर काम करने वालों को खाता के माध्यम से भुगतान करने के बजाए नकद व कम राशि देने की शिकायतें अफसरों ने दर्ज की। 10 फरवरी को 13 पंचायतों में एक साथ की गयी जांच की रिपोर्ट पदाधिकारियों ने डीएम को सौंपी थी।

उन्होंने बताया कि डीएम ने रिपोर्ट का मंथन करने के बाद छांव के पंचायत रोजगार सेवक, प्राक्कलन तैयार करने वाले इंजीनियर, मापी पुस्तिका दर्ज करने वाले तकनीकी पदाधिकारी, खजुरा के पंचायत रोजगार सेवक, तकनीकी पदाधिकारी , वार्ड सदस्य , उप मुखिया, खड़सरा के पंचायत रोजगार सेवक एवं कर्णपुरा के पंचायत रोजगार सेवक, तकनीकी पदाधिकारी, मुखिया के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दुर्गावती के कार्यक्रम पदाधिकारी राजीव मृणाल को दिया।

बताया गया है कि उक्त प्रखंड में मनरेगा में ही घोटाला करने के आरोप में एक पंचायत के तत्कालीन मुखिया व पंचायत सेवक जेल जा चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कैमूर में इंजीनियर समेत 11 पर होगा मुकदमा