DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जौनपुर में पकड़ाया ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’

जौनपुर। निज संवाददाता।

इंटरमीडिएट की शिक्षा ग्रहण कर खुद को एमबीबीएस, एमडी व डीएम गैस्ट्रोलाजिस्ट बताते हुए इलाज करने वाला फर्जी डॉक्टर शुक्रवार को पुलिस के हत्थे चढ़ गया। सिटी मजिस्ट्रेट, सीओ सिटी व सीएमएस के नेतृत्व में की गयी छापेमारी के दौरान इसका खुलासा हुआ। शहर कोतवाली क्षेत्र के कटघरा के पास संचालित नर्सिग होम में यह ‘खेल’ पिछले चार महीने से चल रहा था। पुलिस ने उसके सारे सर्टिफिकेट, लेटरपैड और दवाइयां जब्त कर ली है।

फैजाबाद जनपद का मूल निवासी लक्ष्मीशंकर ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’ से कम नहीं है। पकड़े जाने के बावजूद वह खुद को बेकसूर बताता रहा। यह कार्रवाई डीएम के निर्देश पर की गयी है। जिलाधिकारी गौरव दयाल से आईएमए के पदाधिकारियों ने शिकायत की थी कि शहर में बड़े पैमाने पर फर्जी डॉक्टर मरीजों की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहे हैं। जिलाधिकारी ने इसे गंभीरता से लिया व सिटी मजिस्ट्रेट राजेश श्रीवास्तव को जांच का निर्देश दिया।

जांच के पहले चरण में कलीचाबाद मार्ग पर कटघरा के पास ओम हास्पिटल पाली क्लीनिक में पाया गया कि लक्ष्मीशंकर मिश्र नामक युवक खुद को डॉक्टर लक्ष्मीशंकर मिश्र बताकर लोगों का इलाज कर रहा है। इतना ही नहीं, वह आपरेशन भी करता रहा। ताज्जुब की बात यह है कि वह सिर्फ इंटरमीडिएट पास है। इसकी पुष्टि होते ही सिटी मजिस्ट्रेट अपने साथ सीएमएस डा. आरपी शर्मा, सीओ सिटी कुमार रणविजय सिंह, ड्रग इंस्पेक्टर नरेश मोहन को लेकर शुक्रवार को ओम हास्पिटल एवं पाली क्लीनिक पर छापा मारा। उस दौरान लक्ष्मीशंकर मिश्र एक मरीज को देख रहा था। पुलिस टीम को देख वह हड़बड़ा गया।

जांच के दौरान पाया गया कि लक्ष्मीशंकर मिश्र ने डाक्ट्रेट की पढ़ाई की ही नहीं है।लक्ष्मीशंकर मिश्र की क्लीनिक में विकास हास्पीटल व पाली क्लीनिक श्रीकांतपुर चौराहा, गोसाईगंज, आजमगढ़ पते का लिखा लेटरपैड मौके पर मिला। पैड पर डा. लक्ष्मीशंकर मिश्र, एमबीबीएस, एमडी, मेडिसिन बीएचयू व डीएम गैस्ट्रोलाजिस्ट, पूर्व मेडिकल आफिसर जीटीवी हास्पीटल, दिल्ली लिखा था।

इसके अलावा ओम हास्पीटल पाली क्लीनिक के लेटरपैड पर भी यही नाम और पता लिखा था। लक्ष्मीशंकर ने बताया कि वह इंटर पास है लेकिन कोई प्रमाणपत्र नहीं है। मेडिकल नर्सिग कोर्स किया है। वह यहां पिछले चार महीने से मरीजों को देख रहा है।

साजिश के तहत उसे फंसाया गया है। लक्ष्मीशंकर ने बताया कि यह नर्सिग होम उसका नहीं है। यह डॉक्टर जेके यादव का है। वह फैजाबाद जनपद के इनायतनगर थाना क्षेत्र स्थित रेवना गांव का निवासी है।सीएमएस व ड्रग इंस्पेक्टर ने कहा कि लक्ष्मीशंकर मिश्र के खिलाफ मेडिकल कौंसिल एक्ट व ड्रग एवं कास्टमेटिक के साथ ही आईपीसी की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाएगा। सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि डीएम के निर्देश के बाद मैंने गुप्त जांच की और कई लोगों का बयान लिया। इससे पुष्टि हुई कि लक्ष्मीशंकर ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’ है।।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जौनपुर में पकड़ाया ‘मुन्नाभाई एमबीबीएस’