DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिंदगी तेरे नाम

बूढ़े हो चुके सिंह साहब (मिथुन चक्रवर्ती) एक हॉस्पिटल में अपनी याद्दाश्त खो चुकी मैडम (रंजीता) को किसी डायरी में से पढ़ कर एक प्रेम कहानी सुना रहे हैं। उनका दावा है कि यह कहानी बहुत अच्छी है और सुनते-सुनते मैडम भी यही कहती हैं कि कहानी सचमुच अच्छी है। पर अगर ऐसा है तो यही बात सामने बैठे दर्शकों को महसूस क्यों नहीं होती? इस कहानी के लिए उनके मन में कोई उत्सुकता पैदा क्यों नहीं होती? क्यों वे बार-बार पहलू बदलते हुए उस घड़ी को कोसते हैं, जब उन्होंने इस फिल्म को देखने का फैसला किया था और बार-बार घड़ी देखते हैं कि कब इंटरवल हो और वह पॉपकॉर्न खाएं।

यह सही है कि इधर हमारे यहां ऐसी फिल्में बहुत बड़ी तादाद में बनने लगी हैं, जिन्हें देखने जाने वालों का मकसद फिल्म से ज्यादा पॉपकॉर्न को एन्जॉय करना होता है। लेकिन उन फिल्मों में फिर भी कुछ मसाला होता है, कुछ रस होता है, थोड़ा और अकसर फिजूल ही सही, मनोरंजन भी होता है। मगर इस फिल्म को देख रहे दर्शक के हाथ इनमें से कुछ भी नहीं लगता तो कसूर किस का है, इसे लिखने वालों का या इसे बनाने वालों का?

फिल्म में कहानी के नाम पर मुरब्बा भी नहीं है। वही सदियों पुरानी अमीर लड़की और गरीब लड़के की प्रेमकथा, जिसमें लड़की के अमीर मां-बाप रोड़ा बन कर आ खड़े होते हैं। खैर, इस कहानी को भी सही तरह से परोसा जा सकता था। लेकिन उसके लिए पटकथा में दम चाहिए, पेंच चाहिए, पैनापन चाहिए और यहां ऐसा कुछ भी नजर नहीं आता।

स्क्रिप्ट में न तो कोई ऊंचाइयां हैं और न ही गहराइयां। सीधी-सपाट, बेअसर-सी चलती है स्क्रिप्ट। आशु त्रिखा कोई बहुत कमाल के निर्देशक नहीं माने जाते, फिर भी वह ठीक-ठाक सा काम तो कर ही लेते हैं। उनकी ‘बाबर’ को तो सराहा भी गया था। लेकिन इस फिल्म में उनका कहीं कोई असर नजर नहीं आता। दर्शक बेचारा अब कुछ बढ़िया होगा, अब कोई बात बनेगी जैसी उम्मीदें ही लगाता रह जाता है और फिल्म खत्म भी हो जाती है।
चलिए इसमें कुछ कॉमेडी ही डाल देते आशु।

नहीं तो फिर आंसू बहा सकने वाले इमोशंस। या फिर एक्टर ही थोड़े ठीक-ठाक ले लेते, तब भी काम चल जाता। लेकिन नहीं, इस फिल्म में इनमें से कुछ भी नहीं है। मिथुन दा और रंजीता के चेहरों पर पूरी फिल्म में एक जैसे ही भाव रहे हैं। नए कलाकार असीम अली खान, प्रियंका मेहता और आशीष शर्मा में कॉन्फिडेंस तो दिखता है, लेकिन एक्टिंग का माद्दा नहीं। बाकी कलाकारों में दिलीप ताहिल, यतिन कार्येकर, हिमानी शिवपुरी, अमित मिस्त्री आदि को तो ढंग के रोल ही नहीं मिले।

रही गीत-संगीत की बात तो साजिद-वाजिद ने मेहनत तो काफी की और दिया मिर्जा का एक आइटम नंबर तक डाला गया, लेकिन इन सबमें भी एक सूखापन और एक बासीपन-सा साफ दिखाई देता है। दरअसल बासीपन तो इस पूरी फिल्म में ही है। लंबे अर्से से बन कर पड़ी इस फिल्म को बड़ा पर्दा नसीब हो गया, यही काफी है। इस हफ्ते कोई पुरानी अच्छी फिल्म पैंडिंग पड़ी हो तो उसे ही देख लीजिए।

कलाकार: मिथुन चक्रवर्ती, रंजीता
निर्माता: पवन गोयल
निर्देशक: आशु त्रिखा
संगीत: साजिद-वाजिद
गीत: फैज अनवर, जलीस शेरवानी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिंदगी तेरे नाम