DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छात्रसंघ चुनावों से प्रतिबंध हटने से छात्र खुश

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा छात्रसंघों को बहाल किए जाने के निर्णय से राज्यभर के विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के छात्रों में खुशी की लहर है। छात्र मिठाईयां बांटकर और पटाखे चलाकर अपनी खुशी का इजहार कर रहे हैं।

पद एवं गोपनीयता की शपथ लेने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार देर रात राज्य के सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में छात्रसंघ बहाल करने की घोषणा की। अखिलेश ने कहा कि अब पूर्व की भांति शिक्षा के सभी संस्थानों में छात्रसंघों का चुनाव होगा, जिनमें छात्र अपने प्रतिनिधियों का स्वयं चुनाव करेंगे।

पांच साल से छात्रसंघ चुनावों पर लगी रोक हटने के बाद शुक्रवार को राजधानी लखनऊ, इलाहाबाद, बरेली, कानपुर, फैजाबाद, जौनपुर, गोरखपुर, मेरठ, वाराणसी में विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों के सैकड़ों छात्र सड़कों पर उतरकर अपनी खुशी का इजहार कर रहे हैं।

जौनपुर स्थित पूर्वाचल विश्वविद्यालय के छात्र नेता विपुल सिंह ने समक्ष अखिलेश सरकार के इस कदम को लोकतंत्र को मजबूत बनाने की दिशा में उठाया गया ठोस कदम बताया। उन्होंने कहा कि छात्र संघ राजनीति की नर्सरी की तरह होते हैं और इन पर प्रतिबंध लगाना लोकतंत्र के खिलाफ है।

लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र नेता आदिल सिद्दीकी ने कहा कि अब छात्र संघ बहाल होने से छात्र अपनी बात मजबूती के साथ रख पाएंगे।

गौरतलब है कि पिछले करीब पांच सालों से प्रदेश में छात्रसंघ चुनावों पर प्रतिबंध लगा था। पिछली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सरकार ने यह कहते हुए राज्य में छात्रसंघ चुनावों पर रोक लगा दी थी कि इससे विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में पढ़ाई का माहौल प्रभावित होता है और गुंडागर्दी बढ़ती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छात्रसंघ चुनावों से प्रतिबंध हटने से छात्र खुश