DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘पोस्टमार्टम रिपोर्ट रख भूल गई रिफाइनरी पुलिस’

मथुरा। निज संवाददाता

रिफाइनरी थाना पुलिस की कारस्तानी देखिए, हत्या जैसे मामले में हद दर्जे की लापरवाही बरती गई। इससे अज्ञात युवक की शिनाख्त कराने का प्रयास तक नहीं हुआ। थाना पुलिस के पास मृतक की पोस्टमार्टम रिपोर्ट पहुंची। उसमें युवक की हत्या गला दबाकर किए जाने की पुष्टि हुई, इसके बाद भी हत्या कर शव छिपाने की रिपोर्ट नहीं लिखी गई। मंगलवार को एसपी सिटी ने थाने का निरीक्षण किया तो मामला सामने आ गया। थानाध्यक्ष की क्लास लगाई तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट खोजी गई। पूरे तीन माह बाद हत्या कर शव छिपाने की रिपोर्ट दर्ज की गई है। थाना रिफाइनरी अंतर्गत गांव बाद के जंगल में 16 दिसम्बर 2011 को 28 वर्षीय युवक का शव मिला था।

युवक की हत्या कर शव फेंके जाने की आशंका जतायी जा रही थी। मौके पर पहुंचे अधिकारी भी हत्या की बात कह रहे थे। घटनास्थल का निरीक्षण थानाध्यक्ष ग्रीस चंद गौतम के अलावा सीओ रिफाइनरी मुकुल द्विवेदी ने भी किया था। बाद में निरीक्षण करने एसपी सिटी रामकिशोर भी पहुंचे थे। इस दौरान जनपद में हत्याओं का ग्राफ अधिक बढ़ जाने पर थाना पुलिस हत्या की रिपोर्ट सीधे दर्ज करने से बच रही थी। पहले तो पुलिस ने युवक को विक्षिप्त बताते हुए स्वभाविक मौत होने की बात भी कही थी। हुआ भी ऐसा ही रिफाइनरी थाना पुलिस ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराने के बजाय शव को पोस्टमार्टम भेज दिया। तब पुलिस ने तर्क दिया था कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मुकदमा दर्ज कर लिया जायेगा। पुलिस सूत्र बताते हैं कि थाना पुलिस को एक सप्ताह के अंदर ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट प्राप्त हो गई थी। इसके बाद भी पुलिस मुकदमा दर्ज करने से बचती रही। पुलिस ने अज्ञात शव को जीडी नंबर-7 पर जरूर दर्ज कर लिया था। पुलिस सूत्र बताते हैं कि इस दौरान तमाम लोग शव की शिनाख्त करने थाने पहुंचे, लेकिन रिपोर्ट दर्ज न होने के कारण पुलिस ने युवक का शव मिलने से इंकार कर दिया। पुलिस ने शिनाख्त करने आए लोगों को मृतक से मिले कपड़े इत्यादि भी नहीं दिखाए। पुलिस कभी चुनाव का बहाना बना देती तो कभी होली में ड्यूटी लगी होने की बात कह देती थी। मंगलवार को एसपी सिटी रामकिशोर वर्मा थाना रिफाइनरी का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने सभी रजिस्टर चेक किए।

जब अज्ञात शव जीडी पर अंकित देखा तो उसके संबंध में जानकारी मांगी। उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी तलब की। थाना सूत्र बताते हैं कि उन्होंने जब पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखी तो उनका माथा चकरा गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में युवक की मौत का कारण गला दबाकर होना पाया गया था। इससे साफ होता है कि युवक का हत्याभियुक्तों ने गला दबाकर मौत की नींद सुला दिया था। हत्याभियुक्त शव को छिपाने के उद्देश्य से ग्राम बाद केजंगल में शव को फैंक गए थे।

एसपी सिटी ने थानाध्यक्ष को लापरवाही बरतने पर जमकर लताड़ लगाई। इसके बाद तत्काल मुकदमा दर्ज कर शिनाख्त कार्रवाई कराने के निर्देश दिए। थाना रिफाइनरी पुलिस ने बुधवार को सुबह 6.45 बजे जीडी नंबर-7 को पोस्टमार्टम के आधार पर चौकीदार खेलन सिंह पुत्र राधेश्याम निवासी बाद की तहरीर पर अज्ञात के खिलाफ हत्या कर सबूत नष्ट करने के उद्देश्य से प्रह्लाद वैश्य के खेत में शव को फैंक जाने की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘पोस्टमार्टम रिपोर्ट रख भूल गई रिफाइनरी पुलिस’