DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोई घर नहीं सुरक्षित, हर दिन हो रहीं 12 वारदातें

गाजियाबाद। सौरभ श्रीवास्तव

हर साल क्राइम रिकार्ड गिरने का दावा करने वाली गाजियाबाद पुलिस की पोल उन्हीं का रिकार्ड खोल रही है। जिले में सबसे ज्यादा चोरी की वारदात होती है। 2011 में जहां चोरी की कुल 3053 घटनाएं हुईं, वहीं इस साल दो माह के भीतर यह आंकड़ा साढ़े सात के पास पहुंच गया है। अगर यही हाल रहा तो दिसंबर के अंत तक चोरी का आंकड़ा 4320 तक पहुंचेगा। शहर के इंदिरापुरम, कविनगर, विजयनगर इलाके में सबसे ज्यादा घटनाएं होती हैं।अगर उपरोक्त आंकड़ाें के अलावा बात करें, तो रोजाना जिले के विभिन्न थानों में कम से कम चोरी की 10 ऐसी वारदातें आती हैं, जिन्हें दर्ज ही नहीं किया जाता। इनमें सबसे ज्यादा वाहन चोरी की घटनाएं होती हैं। जिस मामले की रिपोर्ट दर्ज कर ली जाती है, वह मामले सामने आ जाते हैं, मगर जिनकी सुनवाई न तो थाने और न अधिकारियों के पास होती है, वह मामले दबे रह जाते हैं। ऐसे में बदमाशों को और भी शह मिलती है। कविनगर सबसे पॉश इलाकों में से एक है। एसएसपी ऑफिस भी यहीं पर है। एसएसपी ऑफिस से दिनदहाड़े दिल्ली पुलिसकर्मी की बाइक चोरी हो जाती है। इतना ही नहीं इंदिरापुरम थाने से सटे वसुंधरा इलाका भी इस मामले में सुरक्षित नहीं है। इस वर्ष दो माह के भीतर 315 वाहनों की चोरी हुई। कुल मिलाकर 424 बार चोरों ने हाथ साफ किया। 60 दिनों के भीतर करीब साढ़े सात सौ चोरियां हुईं। यानी एक दिन में औसतन चोरी के 12 मामले सामने आए। अगर पिछले वर्ष से तुलना करें तो एक जनवरी से 31 दिसंबर तक कुल 2274 वाहन चोरी हुए और बाकी 779 चोरियां हुईं। इसके अनुसार प्रत्येक माह 254 चोरी और रोजाना आठ चोरी का रिकार्ड रहा। 2012 में यह रिकॉर्ड टूटता नजर आ रहा है। वर्ष वाहनों की चोरी अन्य चोरी 2011 2274 7792012 315 424 (जनवरी व फरवरी)(यह आंकड़े पुलिस रिकार्ड के हैं)

 

गाजियाबाद/ट्रांस हिंडन। हिन्दुस्तान टीम

इंदिरापुरम थाने से चंद कदम की दूरी पर गुरुवार की रात चोर एक डॉक्टर की क्लीनिक में ग्रिल काटकर घुस गए और एलसीडी टीवी, गैस सिलेंडर, दवाओं के अलावा नल की टोटी और गैस के बर्नर लेकर फरार हो गए। वहीं विजयनगर इलाके में बदमाशों ने एक वकील के घर को निशाना बनाया और 50 हजार की नगदी, डेढ़ लाख के आभूषण, कीमती सामान समेत करीब ढाई लाख की चोरी कर चलते बने।

वुसंधरा सेक्टर 9 स्थित 955 में डॉ. रमेश त्रिपाठी की कार्तिक मेडिकल सेंटर नाम से क्लीनिक है। उनकी पत्नी वंदना त्रिपाठी भी डॉक्टर हैं। दोनों इसी क्लीनिक में बैठते हैं। पास में स्थित जनसत्ता सोसाइटी में वे रहते हैं। रात में करीब 9.30 बजे डॉ. रमेश अपनी क्लीनिक से घर गए थे। इसके बाद स्टॉफ क्लीनिक बंद कर चला गया। सुबह करीब 8.30 बजे स्टाफ पहुंचा। बाहर से ताला बंद था। स्टाफ ताला खोकर भीतर गया, तो अंदर का दरवाजा बंद था। धक्का देने के बाद भी जब दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने डॉक्टर रमेश को फोन किया। 10 मिनट में डॉ. त्रिपाठी क्लीनिक में पहुंच गए।

वह सीढ़ी की मदद से पड़ाेसी की छत से होते हुए अपनी क्लीनिक की छत पर गए। वहां देखा कि छत का दरवाजा खुला पड़ा था और ग्रिल टूटी हुई थी। इसे ही तोड़कर चोर भीतर दाखिल हुए थे। चोरों ने सीढिम्यों का दरवाजा बंद कर दिया था। अधिक थी चोरों की संख्याछत से सिलेंडर और एलसीडी ले जाने का मतलब है कि चोर चार-पांच की संख्या में थे क्योंकि सिलेंडर भरा हुआ था। तीसरी बार हुई घटना डॉक्टर त्रिपाठी के यहां यह तीसरी वारदात है। 2005 में बच्चों और नौकर को बंधक बनाकर डकैती पड़ी थी। उस समय लाखों रुपए का माल चला गया था। जब घटना हुई थी, उस समय डॉक्टर और उनकी पत्नी दोनों अस्तपाल गए थे। पहले डॉक्टर का क्लीनिक और निवास दोनों यहीं था। लेकिन इस घटना के बाद उन्होंने अपना आवास जनसत्ता सोसाइटी में बना लिया और क्लीनिक यहां पर रखी। 2010 में डॉक्टर की क्लीनिक के ताले फिर टूटे लेकिन चोर वारदात को अंजाम नहीं दे पाए। वकील के घर को निशाना बनायाजी-358, प्रताप विहार में रहने वाले राजीव कुमार अग्रवाल बुधवार रात तबियत खराब होने पर डॉक्टर के पास गए हुए थे। इसके बाद वह रात में सोने के लिए साहिबाबाद स्थित अपने भाई के घर चले गए। गुरुवार सुबह राजीव के पड़ाेसी ने उन्हें फोन किया और उनके घर का ताला टूटा होने की जानकारी दी। राजीव जब घर पहुंचे तो देखा कि सारा सामान बिखरा पड़ा था। सेफ बॉक्स में रखा करीब 50 हजार रुपया और डेढ़ लाख रुपये के गहने गायब थे। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने मौके पर जांच की। वसुध्ांरा सेक्टर 6 में भी ताला टूटेट्रांस हिंडन। वसुंधरा सेक्टर 6 स्थित शिक्षा अपार्टमेंट में दिन में कई घरों के ताले टूट गए। सोसाइटी के लोगों का कहना है कि सिक्योरिटी गार्ड की लापरवाही की वजह से ताले टूटे हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है। जानकारी के अनुसार सेक्टर 6 स्थित शिक्षा अपार्टमेंट एम 1/19 में प्रतीक्षा रहती हैं। वो दोपहर को किसी काम से घर से बाहर गई थीं। वापस आने पर उन्हें ताला टूटा मिला। इसके अलावा अगल-बगल के दो घरों के ताले भी टूटे पड़े थे। मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस सिक्योरिटी गार्डो को हिसरात में लेकर पूछताछ कर रही है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोई घर नहीं सुरक्षित, हर दिन हो रहीं 12 वारदातें