DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नजफगढ़ में एई और जेई बने निशाना

नजफगढ़ जोन के असिस्टेंट इंजीनियर (एई) अजय शर्मा और जूनियर इंजीनियर (जेई) नरेन्द्र मलिक गुरुवार को पालम क्षेत्र में सील संपत्तियों का सर्वे करने गए थे। जांच करनी थी कि कहीं किसी ने सील तोड़ तो नहीं दी है। इसी दौरान बिल्डर माफियाओं ने अभियंताओं पर हमला करवा दिया।


नरेन्द्र मलिक ने बताया कि पालम में वह एक बेसमेंट की जांच करने गए थे, लेकिन उसका मालिक मिला नहीं। बाहर निकलकर उन्होंने आसपास के लोगों को बताया कि वह लोग नगर निगम से आए हैं। इसके बाद गाड़ी छोड़कर वे पैदल ही आगे बढ़े। इसी बीच कुछ लोगों ने उन पर हमला कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार मलिक ने इस क्षेत्र में कई इमारतों को सील और ध्वस्त कराया है। इस कारण उनको धमकी मिल चुकी थी। धमकी देने वालों ने ही हमला करवाया।


हमला होने के बाद मलिक ने 100 नंबर पर फोन किया। पुलिस आती इसके पहले ही वहां पर स्कारपियो गाड़ी में कई लोग आ गए, जिन्होंने एक साथ हमला कर दिया। मलिक के दाएं हाथ में हेयरलाइन फ्रैक्चर हुआ है और कान और पेट में चोट आई है। अजय शर्मा ने बताया कि लोग उनको पहचानते नहीं थे, इस कारण वह निशाना नहीं बने और बीच बचाव का प्रयास करते रहे। इस मामले में विनोद और अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट की गई है।

टोकने पर ठेकेदार ने किया हमला

साउथ जोन के वर्क्स डिपार्टमेंट में तैनात असिस्टेंट इंजीनियर एसएच मुज्तबा मालवीय नगर में चल रहे एक निर्माण कार्य का मुआयना करने पहुंचे थे। यहां पर काटी गई सड़क पर इंटरलॉकिंग वाली टाइल्स लगाई जा रही थी। मुज्तबा ने पाया कि ठेकेदार काम को अच्छे से नहीं कर रहा है। इस पर उन्होंने उसको टोका और बात बढ़ गई। ठेकेदार ने इंजीनियर पर हमला कर दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मुज्तबा ने ठेकेदार को जब काम सही ढंग से करने के लिए कहा तो उसने कुछ संसाधन कम होने की बात कही। इस पर उन्होंने कहा कि काम रोक दो और जब संसाधन जुट जाए तो फिर से शुरू करना। इस पर ठेकेदार ने कहा कि काम तो नहीं रुकेगा और जैसे चल रहा है वैसे ही चलेगा। इस पर इंजीनियर ने नाराजगी जाहिर की और बात बढ़ गई। ठेकेदार ने पहले तो हाथापाई की बाद में पत्थर उठाकर हमला कर दिया। इंजीनियर ने खुद को किसी तरह से बचाया और 100 नंबर पर फोन किया। लोग भी वहां पर जुट गए। इसके बाद उनको एम्स के ट्रामा सेंटर ले जाया गया। इस मामले में पुलिस में सुनील नाम के ठेकेदार के खिलाफ रिपोर्ट की गई है।

ग्रेटर कैलाश में चला बुलडोजर

नई दिल्ली प्रमुख संवाददातादिल्ली नगर निगम के अभियंताओं पर बिल्डर माफिया हमले कर रहे हैं, बावजदू इसके अवैध निर्माणों के खिलाफ कार्रवाई बिना डरे की जा रही है। गुरुवार को साउथ जोन के बिल्डिंग विभाग ने ग्रेटर कैलाश और हौजखास जैसे वीआईपी इलाके में अवैध निर्माण तोड़ने की कार्रवाई की।

साउथ जोन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि निगम के चुनाव होने वाले हैं, इस कारण बिल्डर माफिया ज्यादा सक्रिय हो गए हैं। ऐसे में कार्रवाई के दौरान बिल्डर माफिया नेताओं से दबाव डलवाते हैं। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट की मॉनिटरिंग कमेटी के निर्देश और नगर निगम के कानून की पालना करते हुए कार्रवाई पूरी सक्रियता से की जा रही है। गुरुवार को साउथ जोन के बिल्डिंग विभाग ने सैदुल्लाजाब और महरौली में अवैध निर्माण के खिलाफ अभियान चलाया और आधा दजर्न से अधिक इमारतों को तोड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नजफगढ़ में एई और जेई बने निशाना