DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विपक्ष अपनी बात मनवाने के लिए गांधीगिरी पर उतरा

हिमाचल प्रदेश विधानसभा में कांग्रेस को स्वास्थ्य मंत्री राजीव बिंदल के इस्तीफे की मांग को लेकर गुरुवार को गांधीगिरी का सहारा लेना पडा़। बिंदल के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के मद्देनजर विपक्ष उनके इस्तीफे की मांग पर अड़ा रहा और सभी सदस्यों ने अपने मुंह पर पट्टी बांधे काले बिल्ले लगाकर सदन में विरोध किया और प्रश्नकाल के दौरान एक शब्द भी नहीं बोला।

सदन की बैठक शुरू होते ही कांग्रेस सदस्यों ने विधानसभा का बहिर्गमन किया। विपक्ष की नेता विद्या स्टोक्स ने बिंदल के मुद्दे को लेकर निष्पक्ष जांच की मांग की।

सभा अध्यक्ष तुलसी राम ने श्रीमती स्टोक्स को बीच में टोकते हुए उनसे बैठने का आग्रह किया और कि आप लोगों के विरोध को आज चौथा दिन है तथा अनावश्क रूप से सदन का समय बर्बाद कर रहे हैं। मैंने इस मामले पर अपनी व्यवस्था दे दी है। मुझे कोई कठोर कदम उठाने को मजबूर न करें।

प्रश्नकाल के बीच कांग्रेस सदस्य आसन के पास जाकर बैठ गए और सरकार से भ्रष्टाचार के इस मुद्दे पर चुप्पी साधे का कारण जानने की मांग की। प्रश्नकाल समाप्त होते ही जैसे ही मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देने उठे विपक्ष सदन से बाहर चला गया।

कांग्रेस के सदस्य जब सदन में लौटे तो वे हाथों में काले बिल्ले बांधे हुए थे। सभा अध्यक्ष ने इसे सदन की संसदीय गरिमा के विरूद्ध बताया। धूमल ने सदन में एक बार फिर स्वास्थ्य मंत्री को भ्रष्टाचार के मामले में क्लीन चिट दी और कहा कि कांग्रेस के पास सरकार के खिलाफ कोई मुद्दा ही नहीं है इसलिए सदन का कीमती समय बर्बाद कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विपक्ष अपनी बात मनवाने के लिए गांधीगिरी पर उतरा