DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो सिपाही की हत्या में दो भाईयों को उम्र कैद

उत्तर प्रदेश में मिर्जापुर की एक अदालत ने दो सिपाहियों की हत्या के जुर्म में गुरुवार को दो भाईयों को उम्रकैद की सजा सुनाई। उम्र कैद की सजा पाने वाले एक अभियुक्त की पत्नी और मां को भी अदालत ने तीन-तीन साल के कैद की सजा सुनाई।

अभियोजन पक्ष के अनुसार पडरी थाना क्षेत्र के बेलवन गांव में नौ अगस्त 1992 की रात क्षेत्राधिकारी राजाराम द्विवेदी अपने दो सिपाही के साथ बेलवन गांव में दबिश डालने गए थे। उन्हें सूचना मिली थी कि गांव के कल्लू और करिमन के घर ट्रेन यात्रियों से लूटे सामान रखे है। पुलिस टीम ने घर से चोरी का सामान बरामद किया। छापे से गुस्साए आरोपियों ने पुलिस टीम पर ही हमला कर दिया। इसमें गांव के अन्य लोग भी शामिल हो गए। कल्लू और करिमन ने अपने भाई छैल बिहारी के साथ सिपाही रामकुमार को कुएं में गिरा कर ऊपर से पटिया फेंक दिया जिससे उसकी मृत्यु हो गई। एक अन्य सिपाही रामनगीना दुबे को भाले से मार डाला तथा क्षेत्राधिकारी राजाराम द्विवेदी को गंभीर रुप से घायल कर दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दो सिपाही की हत्या में दो भाईयों को उम्र कैद