DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PM या ममता ने कहा तो इस्तीफा दूंगा: त्रिवेदी

रेल मंत्री दिनेश त्रिवेदी ने गुरुवार को कहा कि वह एक सिपाही हैं और सीमा चौकी पर तब तक तैनात रहेंगे जब तक कि उन्हें वहां से हटाया नहीं जाता या उनकी पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी अथवा प्रधानमंत्री उनसे इस्तीफे की मांग नहीं करते।

त्रिवेदी ने एक बांग्ला टीवी चैनल से कहा कि मैं एक सैनिक हूं। मैं सीमा चौकी पर तब तक तैनात रहूंगा जब तक कि मुझे वहां से हटाया नहीं जाता, लेकिन यदि मेरे प्रधानमंत्री या मेरी नेता (ममता बनर्जी) मुझे इस्तीफे का आदेश देते हैं तो मैं इस्तीफा दे दूंगा।

तृणमूल कांग्रेस के नेता त्रिवेदी गुरुवार को संसद की कार्यवाही में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि मुझे कुर्सी का कोई मोह नहीं है। इस बीच रेल मंत्री के इस्तीफा देने की चर्चाओं के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने भी लोकसभा में कहा कि प्रधानमंत्री को त्रिवेदी का इस्तीफा नहीं मिला है।

इससे पहले रेल मंत्रालय के सूत्रों ने कहा था कि दिनेश त्रिवेदी ने प्रधानमंत्री को अपना इस्तीफा भेज दिया है। अब तक इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। त्रिवेदी ने गुरुवार सुबह संसद के लिए रवाना होते हुए कहा कि वह बजट पारित कराने की कोशिश करेंगे।

उन्होंने कहा कि रेल मंत्री के नाते जब तक मैं यहां हूं, मैं प्रश्नकाल में मौजूद रहूंगा। मैं रेल बजट को पारित कराने की भी कोशिश करूंगा। त्रिवेदी ने बुधवार को ऐसा रेल बजट पेश किया, जिसमें 10 साल में पहली बार यात्री किराए में वृद्धि का प्रस्ताव है। तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने पार्टी के किराए में वृद्धि के प्रस्ताव को वापस लेने के फरमान की अनदेखी करने के लिए त्रिवेदी को वापस बुलाया था।

ममता का कहना था कि किराए में वृद्धि के प्रस्ताव के सम्बंध में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। दूसरी ओर त्रिवेदी का कहना है कि मैंने शुरू में ही किराए में वृद्धि के संकेत दिए थे लेकिन मैं इस चर्चा से सम्बंधित विस्तृत जानकारी नहीं दूंगा क्योंकि मैं पार्टी का एक वफादार सिपाही हूं।

त्रिवेदी ने कहा कि मैं अपने निर्णय पर अटल हूं। रेलवे की स्थिति व सुरक्षा में सुधार के लिए यह निर्णय लिया गया है। मेरी अंतरात्मा ने जो कुछ भी कहा, मैंने वही किया है। मुझे अपने निर्णय पर गर्व है। मुझे कोई पछतावा नहीं है।

संसदीय मामलों के राज्य मंत्री राजीव शुक्ला ने भी राज्यसभा में बताया कि प्रधानमंत्री को रेल मंत्री का कोई इस्तीफा नहीं मिला है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस सम्बंध में एक संदेश भेजा है लेकिन इस पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है। जब कोई निर्णय लिया जाएगा तो सदन को सूचित किया जाएगा।

इस बीच जहाजरानी राज्य मंत्री व तृणमूल कांग्रेस के त्रिवेदी के सहयोगी मुकुल रॉय भी गुरुवार को दिल्ली पहुंच गए। अटकलें लगाई जा रही हैं कि रॉय अगले रेल मंत्री हो सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PM या ममता ने कहा तो इस्तीफा दूंगा: त्रिवेदी