DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एम्स छात्र करेंगे परिसर में कैंडल मार्च

एमबीबीएस छात्र की मौत के बाद आंदोलन पर गए एम्स छात्रों का एक नया छात्र संघ बन गया है। स्टूडेंट एक्शन कमेटी के बैनर तले छात्रों ने तीन मांगों पर अपनी आवाज उठाई है। कमेटी से जुड़े छात्रों का कहना है कि अब तक जो भी संगठन छात्रों के समर्थन में साथ आए हैं, उन्होंने छात्रहित की समस्याओं की जगह अन्य मांगों को भी प्रस्ताव में शामिल कर दिया था। इस बाबत अब नये सिरे से छात्र अपनी आवाज उठाएगें, इसी क्रम में बुधवार को एम्स परिसर में कैंडल मार्च का आयोजन किया गया है।

एक्शन कमेटी के डॉ. महेन्द्र मीणा ने बताया कि अनिल की मौत की न्यायिक जांच के साथ ही थोरोट कमेटी की सिफारिशें लागू करने और छात्र के परिजनों को दिए जाने वाली मुआवजे की धनराशि बढ़ाने के लिए निदेशक सहित केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रलय को पत्र लिखा गया है। छात्रों ने कहा कि एक्शन कमेटी के सदस्यों का भी सभी संगठनों ने स्वागत किया है।

डॉ. मीणा ने बताया कि आरक्षण के श्रेणी में आने वाले छात्रों के साथ संस्थान में शुरू से ही भेदभाव किया जा रहा है और आंदोलन के दौरान इस बात को प्रमुखता से नहीं रखा जा रहा था। छात्रसंघ ने जिन 12 बिन्दुओं का प्रस्ताव बनाया था, उसमें भी छात्र हित की मांगों को शामिल नहीं किया गया था। आंदोलन को सही दिशा देने के लिए स्टूडेंड एक्शन कमेटी बनाई गई है। डॉ. अजय सोयल ने बताया कि समर्थन के लिए दिल्ली के सभी मेडिकल कॉलेज के छात्रों को पत्र लिखा गया है। वहीं दूसरी तरफ अनिल के परिजनों की आर्थिक सहायता के लिए सभी आरडीए ने अपना एक दिन का वेतन देने की बात कही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एम्स छात्र करेंगे परिसर में कैंडल मार्च