DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परीक्षा बहिष्कार वाले कॉलेजों के सेंटर बदलेंगे!

सीएसजेएमयू ने संस्थागत परीक्षाओं के लिए उन कॉलेजों के सेंटर बदलने की तैयारी कर ली है जहां परीक्षा बहिष्कार की धमकी दी गई है। वहीं, कानपुर विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (कूटा) ने फिर कहा है कि वह परीक्षा बहिष्कार वापस नहीं लेगा। अगर विश्वविद्यालय का यही रुख रहा तो पूरी परीक्षा का बहिष्कार करने का निर्णय भी लिया जा सकता है। 

सीएसजेएमयू से संबद्ध ग्रांट पाने वाले कॉलेजों में 30 से ज्यादा ऐसे कॉलेज हैं जहां परीक्षा बहिष्कार का असर पड़ सकता है। ऐसे में इन कॉलेजों का सेंटर अन्य कॉलेजों में डाला जा सकता है। उच्च शिक्षा अधिकारी अखिलेश कुमार ने भी प्राचार्यो को पत्र भेज कर कहा है कि परीक्षा अनिवार्य कार्य है और इसमें सभी को सहयोग करना चाहिए।

कुलसचिव सैय्यद वकार हुसैन ने कहा कि परीक्षाएं तो हर हाल में 17 मार्च से होनी हैं। ग्रांट वाले कॉलेजों का सेंटर दूसरी जगह डालना मुश्किल है। परीक्षा के लिए सभी को तैयार करने के प्रयास किए जा रहे हैं। प्राचार्यो ने परीक्षा कराने का आश्वासन दिया है। एस्मा लगाने का अधिकार विवि का नहीं है। शासन अपने स्तर पर यह निर्णय ले सकता है। यदि कोई कॉलेज बहिष्कार करता है तो वहां की परीक्षाओं के बारे में बाद में विचार किया जाएगा।

कूटा के अध्यक्ष डॉ. आरके सिंह और महामंत्री डॉ. विवेक द्विवेदी ने कहा कि कुलपति के सामने कूटा नहीं झुकेगा। हमारी यूनिट के कॉलेजों में दौरे चल रहे हैं और परीक्षा बहिष्कार का व्यापक असर पड़ेगा। अभी बहिष्कार 17 से 20 मार्च तक है लेकिन हालात देखते हुए इसे बढ़ाया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परीक्षा बहिष्कार वाले कॉलेजों के सेंटर बदलेंगे!