DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

..तो फिर ताजा होगी गोवर्धन विकास महायोजना

गिरिराज धाम को पूरी तरह से विकसित करने के लिए कभी सपा सरकार के रहते गोवर्धन विकास महायोजना तैयार की गई थी। हालांकि योजना जमीनी स्तर पर तो नहीं दिखाई दी, मगर कागजों से दूर कभी नहीं रही। अब फिर सरकार सपा की बन रही है। महायोजना फिर अपना असर दिखाने को तैयार है।

विकास प्राधिकरण में महायोजना को ताजा किये जाने के आसार दिख रहे हैं। जनपद में धार्मिक स्थलों के विकास को लेकर सन 2002 से लेकर 2007 तक चली समाजवादी पार्टी के सत्ता में रहते मथुरा-वृंदावन विकास प्राधिकरण ने सन् 2020 तक के लिए गोवर्धन विकास महायोजना तैयार कराई थी।

इसमें व्यवस्थाएं कुछ ऐसी शामिल की गईं जिससे स्थानीय लोगों के अलावा देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधाएं प्राप्त हो सकें। महायोजना से पहले विकास प्राधिकरण ने अलग-अलग सर्वे कराकर सूचनाएं एकत्र कर ली थीं। इसके अलावा बड़े पैमाने पर महायोजना के लिए भूमि का अधिग्रहण करने के लिए नक्शा तैयार कर लिये गये।

इस महायोजना को पूरे सात कोस यानी 21 किलोमीटर के दायरे को क्षेत्र को इसमें समाहित किया गया। जैसे ही महायोजना नक्शे पर आई और इसका असर दिखता तब तक प्रदेश में 2007 के बाद बसपा सरकार काबिज हो गई। इससे महायोजना कागजों में अटक गई।

विकास प्राधिकरण भी शांत हो गया। अब प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार बन रही है। विकास प्राधिकरण में फिर से महायोजना की हलचल बढ़ रही है। फाइलें साफ सुथरी कर ताजा की जा रही हैं। सचिव मानवेन्द्र सिंह ने बताया कि मैंने सुना था मगर मेरे संज्ञान में कागजी तौर पर कोई महायोजना तैयार नहीं की गई है। यदि शासन से ऐसा कोई आदेश आएगा तो उसका पालन किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:..तो फिर ताजा होगी गोवर्धन विकास महायोजना