DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत पहले 100 सुपर कम्प्यूटर की लिस्ट से बाहर

भारत विश्व के पहले 100 सुपर कंप्यूटर रखने वाले देशों की लिस्ट बाहर हो गया है। जबकि जापान पहले स्थान पर है। उसके पास एक लाख लैपटॉप की क्षमता के बराबर का सुपर कंप्यूटर है। हालांकि भारत 2007 तक सुपर कंप्यूटर वाले देशों की लिस्ट में शामिल था।

आईआईटी में ‘हाई परफार्मिंग कम्प्टूयटिंग-एचपीसी’ विषय पर आयोजित संगोष्ठी में भाग लेने आए सीडैक के डायरेक्टर जनरल डॉ. रजत मोना ने बताया, भारत के सुपर कंप्यूटर के मामले में पिछड़ने की वजह देश में इसके उपयोग में कमी आना है।

सुपर कंप्यूटर का क्षेत्र तब विकसित होगा जब इसका उपयोग बड़े स्तर पर किया जाए। अन्य देशों में इसका उपयोग बढ़ा है। यही कारण है कि वहां सुपर कंप्यूटर भी विकसित किए जा रहे हैं। डॉ. मोना ने बताया, 5000 करोड़ रुपए इस क्षेत्र में सरकार ने स्वीकृत किए हैं। इसके लिए एक स्टीयरिंग कमेटी बनाई जाएगी। इस धनराशि से सुपर कंप्यूटर से जुड़े सभी संदर्भ शामिल किए जाएंगे।

संगोष्ठी के संयोजक डॉ. एमके वर्मा ने बताया, वर्तमान में सुपर कंप्यूटर के क्षेत्र में जापान के बाद नंबर दो और चार पर चीन का नाम आता है। तीसरे स्थान पर अमेरिका। भारत का नाम दो साल पहले तक 500 के अंदर था। 2007 तक चौथे नंबर पर था।

भारत में सुपर कंप्यूटर विकसित करने के लिए जितनी धनराशि की जरूरत है, वह उपलब्ध नहीं है। भारत का सुपर कंप्यूटर पूणे में सीडीआर के पास है। के सिन्हा, टी सेनगुप्ता, बी श्रीनिवासन, मनोज नायर, अनुज जैन और पीबी सुनील कुमार आदि ने शोध पत्र पढ़े।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत पहले 100 सुपर कम्प्यूटर की लिस्ट से बाहर