DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अमर सिंह का सपा में वापस जाने से इंकार, राहुल की तारीफ

एक समय समाजवादी पार्टी की धुरी रहे राष्ट्रीय लोकमंच के नेता अमर सिंह ने सोमवार को अपनी पुरानी पार्टी में वापसी की संभावना से पूरी तरह इंकार कर दिया।

दूसरी ओर उन्होंने कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी की खूब प्रशंसा की और कहा कि उत्तर प्रदेश के नतीजों को देखते हुए उन्हें फ्लाप नहीं माना जाना चाहिए।

विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी को भी उत्तर प्रदेश में भारी निराशा का सामना करना पडा़ है और इस पराजय के बाद वह संसद के सत्र में आकर पहली बार अपनी व्यथा का बयान कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सपा के युवा नेता और राज्य के होने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को उन्होंने ही उत्तर प्रदेश का पार्टी अध्यक्ष बनाने में अहम भूमिका निभाई थी ताकि सपा पर लगा पुरातनपंथी और दकियानूसी पार्टी होने का दाग हटाया जा सके।

अमर सिंह ने कहा कि मेरा आशीर्वाद अखिलेश के साथ है। यदि वह मुझे अपना अंकल कहते हैं तो मैं भी उन्हें भतीजा ही मानता हूं। लेकिन सपा में वापस जाने का प्रश्न नहीं उठता क्योंकि सपा से मेरा रिश्ता दिमाग का नहीं दिल का था। मेरा दिल ही टूट गया है। विश्वास ही उठ गया है। अब मैं वहां नहीं जा सकता।

सिंह ने कहा कि शायद खून के रिश्ते और बाकी रिश्ते में ही फर्क है। एक समय आजम खान समेत जिन लोगों ने मेरा विरोध किया था उन्होंने अब अखिलेश का भी विरोध किया। लेकिन मुलायम सिंह अब उन लोगों को तकरीबन बाहर रास्ता दिखा दिया। जब इन लोगों ने मुझे उनकी मौजूदगी में दलाल और सप्लायर कहा था तो उन्होंने मुझ से नाता तोड़ लिया था।

पूर्व सपा महासचिव ने कहा कि उत्तर प्रदेश के नतीजों को देखते हुए राहुल गांधी को फेल नहीं माना जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर राहुल ने मोर्चा नहीं संभाला होता तो कांग्रेस का बुरा हाल होता। बादल बरसें तो पानी भी रोकने वाला होना चाहिए और पार्टी में यह काम संगठन करता है। राहुल के कारण बादल तो आए लेकिन कांग्रेस का संगठन इन वोटों को इकट्ठा करने में सक्षम नहीं था।

अमर सिंह ने कहा कि अगर एक चुनाव के नतीजों से ही किसी को फेल मान लिया जाए तो यह देखना चाहिए कि कुछ समय पहले अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल चुनाव हार गई थीं और मीडिया ने उन्हें फ्लाप कह दिया था।

यह पूछने पर कि अब मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व में तीसरा मोर्चा बनाने और उन्हें प्रधानमंत्री तक बनाए जाने की बातें चल रही हैं, सिंह ने कहा कि लोकशाही में कोई किसी को प्रधानमंत्री नहीं बनाता। आज सपा महासचिव राम गोपाल यादव बडे़ बोल बोल रहे हैं कि उन्होंने अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाने का प्रण लिया था और बना दिया और अब वह मुलायम सिंह को प्रधानमंत्री बनवाएंगे। लेकिन उन्हें याद रखना चाहिए कि अखिलेश अपने प्रारब्ध से मुख्यमंत्री बने हैं और यदि मुलायम सिंह के प्रारब्ध में प्रधानमंत्री बनना नहीं लिखा है तो उन्हें कोई बना नहीं सकता। लोकशाही में सब कुछ लोकशाही के हाथ में है और प्रारब्ध के हाथ में है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अमर का सपा में वापिसी से इंकार, राहुल की तारीफ