DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युवती का अपहरण,10 लाख की फिरौती मांगी

शहर कोतवाली की रिपोर्टिग पुलिस चौकी कृष्णा नगर अंतर्गत बाग काजियान से एक माह पूर्व एक युवती को कुछ युवक जबरन गाड़ी में डालकर ले गए। सत्ता के दबाव में पुलिस पीड़ित परिवार को लगातार दौड़ाती रही। एक माह बाद अब जाकर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की है। रविवार को कोतवाली पुलिस ने गांव धर्मपुरा में युवती की बरामदगी को दबिश दी।

भूतेश्वर स्थित बाग काजियान से पिछले माह 12 फरवरी को रिपुसूदन सिंह निवासी मीरानपुर थाना अकबरपुर जनपद अम्बेडकर नगर की पुत्री उपासना सिंह होलीगेट जा रही थी। इसी दौरान शशांक चौधरी पुत्र स्व.विक्रम चौधरी निवासी धर्मपुरा ओल थाना फरह अपने आधा दजर्न साथियों के साथ जबरन उपासना को गाड़ी में डालकर ले गए। परिजनों ने पुत्री को प्राप्त करने की तमाम कोशिश की, लेकिन कामयाबी नहीं मिली। परिजन कृष्णानगर पुलिस चौकी गए। पुलिस ने उल्टे परिजनों को फटकार कर भगा दिया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस पर सत्ता का दबाव बना हुआ था। इसके चलते रिपोर्ट लिखने में आनाकानी करती रही। पीड़ित पुलिस के आला अधिकारियों से भी मिले। वहां भी उनको फटकार ही मिली। सत्ता में बदलाव आते ही पीड़ित ने एक बार फिर रिपोर्ट दर्ज कराने का दबाव बनाया। इस बार उसे सफलता मिल गई। जो अधिकारी अब तक उसे लगातार चक्कर काटने को मजबूर कर रहे थे रिपोर्ट दर्ज करने को तैयार हो गए। वहीं उपासना सिंह को छोड़ने की एवज में अपहरणकर्ता लगातार दस लाख रुपये की मांग कर रहे थे।

 शनिवार रात कृष्णानगर पुलिस ने अपहरण करने और छोड़ने की एवज में 10 लाख रुपये की फिरौती मांगने की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। रविवार को कृष्णा नगर चौकी प्रभारी शस्त्रुधन उपाध्याय ने ओल चौकी पुलिस के साथ गांव धर्मपुरा गांव जाकर दविश दी। यहां पर पंचायत बुलाई गई। पंचायत में गांव के बुजुर्ग लोगों ने युवती को जल्दी पुलिस को सौंपने का आश्वासन दिया। पुलिस ने घरों की तलाशी भी कराई। पुलिस ने साफ किया कि अगर युवती नहीं छोड़ी गई तो परिवार के अन्य लोगों की पकड़ धकड़ शुरू कर देगी। फिलहाल पुलिस बैरंग लौट आयी है। युवती का अभी तक कोई पता नहीं चल सका है। शशांक चौधारी अपने मौसा इंजीनियर रनवीर सिंह के पास रहता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:युवती का अपहरण,10 लाख की फिरौती मांगी