DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लीजिए बोटिंग का मजा

दिल्ली ऐसी जगह है, जहां के लोग अक्सर घूमने के लिए समुद्र तटों का रुख करते रहते हैं। वैसे अगर आप अपने शहर में ही पानी संग खेलना चाहें तो यहां कई ऐसी जगह हैं, जहां वॉटर स्पोर्ट्स और वॉटर राइड्स वगैरह हैं। कहां हैं वो ठिकाने और क्या है उनकी खासियत, बता रहे हैं दीपक दुआ

यहां दिल्ली टूरिज्म के उन छह ठिकानों के बारे में जानकारी दे रहे हैं, जहां जाकर आप काफी कम कीमत में बोटिंग कर सकते हैं और दिल में मीठी यादें लेकर लौट सकते हैं।

इंडिया गेट
बोटिंग के लिहाज से ही नहीं, बल्कि घूमने-फिरने के नजरिए से भी दिल्ली का सबसे पॉपुलर डेस्टिनेशन है इंडिया गेट। वैसे बरसों पहले यहां पर एक बोट-क्लब होता था, जहां एक गैर-सरकारी संस्था बोटिंग करवाया करती थी। लेकिन अब यहां के तालाब में दिल्ली टूरिज्म द्वारा बोटिंग की व्यवस्था है। यहां 20 पैडल बोट हैं, जिनमें दो लोग बैठ सकते हैं। इसके अलावा इतनी ही चप्पू वाली बोट भी हैं। पैडल बोट को आप साइकिल की तरह पैडल चलाते हुए मनचाही दिशा में ले जा सकते हैं। अगर आप खुद चप्पू न चलाना चाहें तो यहां आपकी सहायता के लिए स्थानीय युवक भी मिल जाएंगे, जो थोड़े-से मेहनताने में आपकी मदद कर सकते हैं। रोजाना यहां हजारों की तादाद में दिल्ली और भारत के अलावा विदेशी पर्यटक इंडिया गेट को देखने आते हैं और उनमें काफी सारे बोटिंग का मजा भी लूटते हैं। यहां खाने-पीने की चीजों की भी कोई कमी नहीं है और इंडिया गेट पर पूरे दिन या फिर शाम की पिकनिक को काफी एन्जॉय किया जा सकता है।

पुराना किला लेक
लोकप्रियता के लिहाज से इस जगह को इंडिया गेट के बराबर या फिर दूसरे नंबर पर रखा जा सकता है। दरअसल यहां पास ही चिड़ियाघर यानी राष्ट्रीय प्राणी उद्यान है, जहां रोजाना बड़ी तादाद में टूरिस्ट आते हैं। फिर पुराना किला तो यहां है ही। ऐसे में पुराने किले के ठीक बाहर स्थित इस ङील पर पर्यटकों का जमावड़ा होना स्वाभाविक ही है। यहां पर करीब 40 पैडल बोट हैं, जिनमें से हर एक में चार लोग बैठ सकते हैं। सिर्फ 50 रुपए में आप आधे घंटे के लिए यह बोट किराए पर ले सकते हैं। इसके अलावा यहां पर तीन मोटर बोट शिकारा भी हैं, जिनमें छह लोग बैठ सकते हैं। 120 रुपए में यह मोटर बोट आपको इस झील के दो चक्कर घुमाती है। बोटिंग के अलावा इस झील का एक बड़ा आकर्षण है ‘वॉटर बबल’ यानी प्लास्टिक की एक पारदर्शी बॉल के अंदर रह कर पानी पर चलने, फुदकने और लेटने का अनोखा एहसास। 50 रुपए में किसी भी उम्र का व्यक्ति 10 मिनट तक इस बॉल के अंदर रह सकता है। करीब साढ़े छह फुट की इस बॉल में व्यक्ति के प्रवेश के बाद इसमें एक मशीन से हवा भर दी जाती है और फिर बॉल की जिप बंद करके उसे पानी में धकेल दिया जाता है। समय पूरा होने के बाद यहां मौजूद सहायक रस्सी से बंधी इस बॉल को बाहर खींच लेते हैं। खाने-पीने के लिए यहां खोमचे वाले मिल जाएंगे, फिर चिड़ियाघर के सामने कई फूड-स्टाल तो हैं ही। यहां आने के लिए अपनी गाड़ी आपको चिड़ियाघर की पार्किंग में लगानी होगी। मैट्रो से आप प्रगति मैदान पहुंच कर बस से या पैदल भी आ सकते हैं।

नैनी झील
चलिए अब चलते हैं मॉडल टाउन की नैनी झील की तरफ। उत्तरी दिल्ली में मॉडल टाउन मैट्रो स्टेशन के करीब अल्पना सिनेमा के पीछे स्थित इस झील में एक मोटर बोट और 20 पैडल बोट हैं। 120 रुपए में मोटर बोट आपको इस झील के दो चक्कर घुमाती है तो वहीं पैडल बोट में चार लोग 50 रुपए में आधे घंटे तक बोटिंग के मजे ले सकते हैं। कॉलोनी के बीचों-बीच स्थित इस झील के चारों ओर सुबह-शाम बड़ी तादाद में लोग घूमते और जॉगिंग करते हुए भी नजर आ सकते हैं। सर्दियों में दिन भर और गर्मियों की शामों को यहां बड़ी संख्या में लोग बोटिंग करने आते हैं।
 
प्रसाद नगर लेक
पूसा रोड पर राजेंद्र प्लेस के ठीक पीछे है यह झील। किसी समय कॉफी पॉपुलर रही यह जगह अब ज्यादा लोगों को आकर्षित नहीं कर पा रही है। यही वजह है कि यहां पर अब सिर्फ 5 पैडल बोट ही हैं। एक बोट में चार लोग एक साथ बैठ सकते हैं। यहां पर भी खाने-पीने के लिए आपको खोमचे वालों पर निर्भर रहना होगा। यहां पहुंचने के लिए राजेंद्र प्लेस मैट्रो स्टेशन एकदम करीब है।

भलस्वा लेक
आउटर रिंग रोड पर मुकरबा चौक के समीप यह लेक बहुत बड़ी है, इसीलिए यहां पर कयाकिंग और कैनोइंग जैसी वॉटर स्पोर्ट्स एक्टिविटीज भी होती हैं। किसी समय यहां एक होवरक्राफ्ट भी होता था, जो अब नहीं है। अब यहां पर चार-चार लोगों की क्षमता वाली 12 पैडल बोट हैं। एक मोटर बोट भी है, जो डेढ़ सौ रुपए में छह लोगों को इस विशाल झील का एक चक्कर लगवाती है। यहां आप बस और अपनी गाड़ी के अलावा जहांगीर पुरी मैट्रो स्टेशन से भी पहुंच सकते हैं। यहां पर जलपान के लिए एक कैफेटेरिया भी है।

जापानी पार्क लेक
उत्तर-पश्चिम दिल्ली के रोहिणी इलाके में रिठाला मैट्रो स्टेशन के करीब है जापानी पार्क यानी स्वर्ण जयंती पार्क। इसके सैक्टर-11 वाले गेट की तरफ हाल ही में फिर से बोटिंग चालू की गई है। इस छोटी-सी झील में 15 पैडल बोट हैं और एक मोटर बोट शिकारा। यहां पर भी वॉटर बबल है, जो सिर्फ बच्चों के लिए है। यहां पास ही मैट्रो वॉक के एडवैंचर आइलैंड में भी बोटिंग की सुविधा है, लेकिन वह काफी महंगी है।

1 अक्टूबर से 31 मार्च तक सुबह 11 बजे से शाम 7 बजे और 1 अप्रैल से 30 सितंबर तक दोपहर 12 बजे से रात 8 बजे तक लोग यहां बोटिंग का मजा ले सकते हैं। इंडिया गेट पर यह मजा ज्यादा देर तक लिया जा सकता है। तो चलिए फिर हो जाए फुर्सत में दिल्ली की किसी झील में बोटिंग का अनुभव।

ध्यान रखें
इंडिया गेट पर स्थित बोट क्लब पहुंचने के लिए मैट्रो के केंद्रीय सचिवालय स्टेशन से पैदल भी पहुंच सकते हैं।
पुराना किला लेक में सिर्फ 50 रुपए में आधे घंटे के लिए बोट किराए पर मिलती है।
पुराना किला लेक का करीबी मैट्रो स्टेशन प्रगति मैदान है।
‘वॉटर बबल’ में 50 रुपए में किसी भी उम्र का व्यक्ति 10 मिनट तक इस बॉल के अंदर रह सकता है।
नैनी झील जाने के लिए आप मॉडल टाउन मैट्रो स्टेशन पर उतर सकते हैं।
भलस्वा लेक में चार-चार लोगों की क्षमता वाली 12 पैडल बोट हैं। एक मोटर बोट भी है, जो डेढ़ सौ रुपए में छह लोगों को इस विशाल झील का एक चक्कर लगवाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लीजिए बोटिंग का मजा